फीफा अंडर-17 विश्व कप में भारत का पहला मैच अमेरिका से दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में शुरू होने वाला है। यह पहली बार है जब टीम इंडिया फीफा अंडर-17 विश्व कप में खेल रही है। इस मैच को देखने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी पहुंच। इस दौरान उन्होंने कई खिलाड़ियों का सम्मानित किया। इस मौके पर खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर भी पहुंचे हैं। 

भारत इस मुकाबले में क्लीन शीट रखने का प्रयास करेगा और अनवर अली के नेतृत्व में टीम को अमेरिका की स्टार अटैकिंग लाइन अप को रोकने के लिए बड़ा एफर्ट लगाना होगा। अटैक में स्ट्राइकर अनिकेत जाधव का वर्क रेट और कोमल थाटल और निंथोई की पेस टीम की सबसे बड़ी ताकत होगी।

भारत के पास गोल दागने का सबसे अच्छा मौका सेट पीस से आ सकता है और टीम में नमित देशपांडे और अनवर अली जैसे लम्बे खिलाड़ी मौजूद हैं जो हवा में काफी अच्छे हैं। वहीं संजीव स्टालिन एक शानदार फ्री किक टेकर हैं और वे अमेरिका के ख़िलाफ सेट पीस से मिले मौकों को भुनाने की पूरी कोशिश करेंगे।

दूसरी ओर अमेरिका भारत के ख़िलाफ बड़ी जीत दर्ज करने के इरादे से उतरेगा और टीम का फोकस अटैकिंग फुटबॉल खेलने पर होगा। जॉश सार्जेंट, अयो अकिनोला और टिमोथी वियाह के फ्रंट थ्री ने क्वॉलिफाइंग में शानदार प्रदर्शन किया था और वे टीम इंडिया के डिफेंस को काफी दिक्कतें दे सकते हैं।

अमेरिका का डिफेंस थोड़ा कमज़ोर है और सेंटर बैक्स जेम्स सेंड्स और क्रिस डर्किन दोनों ही आउट ऑफ़ पोजीशन खेल रहे हैं। पिछले साल अमेरिका ने AIFF यूथ कप में टीम इंडिया को 4-0 से मात दी थी और टीम इंडिया इस बार उस रिजल्ट को पलटने की पूरी कोशिश करेगी।

इन खिलाड़ियों पर रहेगी सबकी नजर :

कोमल थाटल (भारत) - काउंटर अटैक में खेलने वाली भारतीय टीम के लिए कोमल थाटल की पेस और क्रिएटिविटी काफ़ी अहम होगी। कोमल लेफ्ट विंग से अंदर की ओर आकर चांसेज़ क्रिएट करने की कोशिश करते हैं और अमेरिका के मेकशिफ्ट डिफेंस को तहस-नहस करने की काबिलियत रखते हैं।

जॉश सार्जेंट (अमेरिका) - टॉप यूरोपियन क्लब्स से लिंक हो चुके जॉश सार्जेंट ने इस साल की शुरुआत में अंडर-20 वर्ल्ड कप में भी खेला था और टूर्नामेंट में 4 गोल्स दागे थे। इस शानदार स्ट्राइकर के पास स्किल्स, पेस और पावर का शानदार मिश्रण हैं और भारतीय डिफेंडर्स को इन्हें रोकने के लिए स्पेशल प्लान बनाना होगा