वैसे तो सारे ही त्यौहारों का अपना महत्व है लेकिन विवाहित महिलाओं के लिए करवा चौथ का त्यौहार बेहद मायने रखता है. इस दिन पति की लंबी आयु और सुखद वैवाहिक जीवन के लिए वे व्रत करती हैं. अविवाहित लेकिन रिश्ते में बंधी या शादी की इच्छुक लड़कियां भी ये व्रत करती हैं. इसमें दिनभर बिना पानी पिए व्रत करना होता है. हम आपसे साझा कर रहे हैं कुछ तरीके, जिन्हें फॉलो करके आप इस कठिन व्रत को आसानी से कर सकेंगी.

*निर्जल व्रत में शरीर में पानी की कमी न हो, इसके लिए व्रत के पहले दिन खूब पानी पिएं. पानी के अलावा पेय पदार्थ जैसे जूस, नारियल पानी, छाछ ले सकते हैं. इससे दिनभर पानी न पीने पर भी आप हाइड्रेटेड रहेंगे.

*वैसे तो रात का खाना लाइट होना चाहिए लेकिन व्रत से पहले रात का खाना ऐसा लें ताकि पेट भरा रहे. इसमें कम तेल में बनी सब्जी, दाल और सलाद हो सकता है. रात का खाना आठ बजे तक खा लें.

*करवा चौथ के रोज सरगी में ज्यादा तला-भुना लेने की बजाए पोषक चीजें लें. सूखे मेवे, दूध, जूस, लस्सी, हलवा आदि ले सकती हैं. इन्हें खाने से दिनभर थकान भी नहीं होगी और शरीर में भारीपन भी नहीं लगेगा.

*बहुत से लोग शाम को व्रतकथा सुनने के बाद चाय पीते हैं. दिनभर पानी न पीने के बाद एकाएक चाय पीना एसिडिटी कर सकता है. इसकी बजाए गुनगुना दूध या जूस लिया जा सकता है.

*चांद को अर्ध्य देने के बाद एकदम से भारी खाना न खाएं. इसकी जगह हल्का और सुपाच्य भोजन ले सकती हैं. कोशिश करें कि खाने के तुरंत बाद सोएं नहीं, वरना दूसरे दिन एसिडिटी की समस्या हो सकती है.

*जो लोग किसी तरह की दवा ले रहे हों या फिर गर्भवती या बच्चे को दूध पिलाने वाली मांओं को निर्जला व्रत से बचना चाहिए. बीच-बीच में पानी या जूस लिया जा सकता है.