राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के करोड़ों श्रद्धालुओं की धार्मिक भावना के अनुरूप विश्व प्रसिद्ध तीर्थराज पुष्कर क्षेत्र का विकास करेगी और अक्षरधाम मंदिर की तर्ज पर इसे संवारा जाएगा.

उन्होंने कहा कि पवित्र पुष्कर सरोवर के घाटों के सौंदर्यकरण और गंदे पानी की समस्या को दूर करने की योजना पर काम शुरू कर दिया गया है. सीएम राजे 'मुख्यमंत्री जनसंवाद' के तहत शुक्रवार को अजमेर जिले के पुष्कर में सर्वसमाज के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रही थीं.

पूरे दिन सीएम राजे ने पुष्कर क्षेत्र के विभिन्न समाजों के लोगों से चर्चा कर उनकी समस्याएं सुनीं और उनसे सुझाव लिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि जो श्रद्धालु पुष्कर क्षेत्र में आएं वे संतुष्टि के साथ एक अलग एहसास लेकर जाएं. इसके लिए यहां के लोगों को भी सरकार का सहयोग करना होगा.

सीएम ने सबसे पहले दलित समाज के साथ बैठक की. उन्होंने कहा कि दलितों की तरक्की से प्रदेश की तस्वीर बदलेगी. इस सोच के आधार पर हमारी सरकार काम कर रही है. बाबा साहेब अम्बेडकर के सपनों को साकार करते हुए हमारी सरकार निरंतर दलित उत्थान में लगी हुई है.

उन्होंने कहा कि जब तक 36 की 36 कौमों और सब मजहबों का विकास नहीं होगा तब तक प्रदेश आगे नहीं बढ़ सकता. दलित समाज ने हमेशा देश का गौरव बढ़ाया है. दलित समाज भी हमारे परिवार का अभिन्न अंग है. देश के अनेक उच्च पदों पर दलित समाज के लोग पदस्थापित हैं जो दलित समाज के लिए गर्व की बात है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी 7 करोड़ से अधिक लोगों को मैंने अपना परिवार माना है और मुखिया होने के नाते परिवार के सभी सदस्यों से सीधा संपर्क कर उनकी तकलीफें जानना और उनको दूर करना मेरा फर्ज है. प्रदेश के हर व्यक्ति को साथ लेकर हमें राजस्थान को नया प्रदेश बनाना है.

अजमेर जिले की श्रीनगर पंचायत समिति के अरड़का गांव के लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके गांव में पानी की समस्या है और बीसलपुर का पानी भी नहीं आता. यह सुनकर सीएम राजे ने मौके पर ही 80 लाख रुपए से पानी की टंकी बनाने के निर्देश दिए. इसके लिए राज्यसभा सांसद कोष से भी मदद ली जाए.