रायपुर। रायपुर में आज सर्व आदिवासी समाज का सम्मेलन आयोजित था। पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम और पूर्व सांसद सोहन पोटाई भी मंच पर थे। बैठक में चुनाव की प्रकिया चल ही रही थी कि सर्व आदिवासी समाज ने नए अध्यक्ष की घोषणा कर दी। लेकिन जैसे ही  समाज ने रिटायर्ड आईएएस बीपीएस नेताम को अध्यक्ष चुना, मंच से विरोध में  आवाज उठी। ये आवाज थी बस्तर के आदिवासियों की सदस्यता से संबंधित। पृथक बस्तर की मांग कर रहे सोहन पोटाई ने मंच से सर्व आदिवासी समाज में बस्तर के आदिवासियों को सदस्यता नहीं दिए जाने का विरोध शुरू कर दिया।  सोहन पोटाई के विरोध के बाद उनके समर्थकों ने पृथक बस्तर की मांग के साथ नारेबाजी शुरू कर दी। चुनाव प्रकिया के बीच ही सोहन पोटाई ने और बस्तर के कुछ अन्य आदिवासी नेताओं ने चुनाव का बहिष्कार कर दिया.यानी जो बैठक समाज की  एकता के नाम पर हो रही थी उसी में विभाजन हो गया।

धान बोनस का फैसला सिर्फ  राजनीतिक
फ यदे के लिए : अकबर
रायपुर।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा है कि बोनस वितरण पर मुख्यमंत्री रमन सिंह के बयान पर चुनाव आयोग को संज्ञान लेना चाहिए। बोनस तिहार कार्यक्रम में सीएम ने कवर्धा में कहा था कि मैं बोनस वितरण के लिए कंप्यूटर का बटन दबाउंगा और आप लोग चुनाव में बटन दबाना। अकबर ने कहा कि रमन सिंह की दिल की बात आखिर जुबान पर आ ही गई। जबकि, वे बार-बार कहते हैं कि बोनस वितरण का कोई राजनीतिक निहितार्थ नहीं हैं। लेकिन, कवर्धा में बयान से अब ये स्पष्ट हो गया है कि भाजपा कहती कुछ और हैं और करती कुछ और। अकबर ने मीडिया को जारी बयान में कहा है कि धान बोनस का फैसला सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए है।