मध्य प्रदेश पुलिस में सालों से उठ रही वीकली ऑफ की मांग पर डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने विराम लगा दिया है. डीजीपी ने साफ कहा कि वीकली ऑफ देने का कोई वादा नहीं कर सकता. वहीं, मैदानी पुलिस को छोड़ दूसरी यूनिटों की पुलिस को वीकली ऑफ देने का प्रयास किया जा रहा है.

सालों से थानों के साथ मैदानी पुलिस भी वीकली ऑफ की मांग करती रही है. सालों पहले पुलिस के लिए बने आयोग भी वीकली ऑफ की सिफारिश कर चुके हैं. मौजूदा गृहमंत्री और भूपेंद्र सिंह के अलावा पूर्व गृहमंत्री बाबूलाल गौर, उमाशंकर गुप्ता भी वीकली ऑफ की वकालत कर चुके हैं.

लंबे समय से उठ रही वीकली ऑफ की मांग के बीच डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने पुलिस दूरसंचार परिसर में आयोजित सिहंस्थ ज्योति मेडल कार्यक्रम के दौरान अपना मत साफ कर दिया है. उन्होंन कहा कि एमपी में पुलिस को विकली ऑफ देना संभव नहीं है. शुक्ला ने कहा कि वीकली ऑफ पर कोई वादा नहीं किया जा सकता.

डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने पुलिस रेडियो शाखा के 127 अधिकारी कर्मचारियों को सिंहस्थ ज्योति मेडल से सम्मानित किया. साथ ही शुक्ला ने 100 डायल कंट्रोल रूम में अच्छा काम करने वाले 47 पुलिसकर्मी कॉल टेकर को भी प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया.

डीजीपी ने टीकमगढ़ मामले की जांच पूरी होने की बात कही. उन्होंने बताया कि जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी. डीजीपी ने महिलाओं की भर्ती को लेकर कई बड़े संकेत दिए. उन्होंने कहा कि सीएम के फैसले के बाद अगली भर्ती में महिलाओं को कद में छूट कितनी दी जानी है, इस पर पुलिस मुख्यालय स्तर पर विचार किया जा रहा है.