मध्य प्रदेश के सिंगरौली नगर निगम में पदस्थ उपायुक्त को लोकायुक्त पुलिस ने एक लाख 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया. उपायुक्त ने 37 लाख रुपए का बिल पास करने के एवज में कमीशन के रूप में कमीशन मांगा था.

रीवा लोकायुक्त पुलिस के अनुसार, निगम में ठोस अपशिस्ट प्रबंधन का कार्य कर चुकी संस्था के प्रोप्राइटर प्रमेंद्र सिंह नाम के व्यक्ति की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई है. प्रमेंद्र सिंह ने लोकायुक्त पुलिस को शिकायत की थी, जिसमें उन्होंने 37 लाख रुपए के बिल के लिए उपायुक्त के तीन प्रतिशत कमीशन रिश्वत के रूप में मांगने का जिक्र किया गया था.

शिकायत की तस्दीक होने के बाद रीवा लोकायुक्त एसपी ने एक विशेष टीम का गठन किया था. इस टीम ने गुरुवार दोपहर को उपायुक्त पांडे को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ धर दबोचा.

उपायुक्त के पास से रिश्वत में दिए गए 2 हजार रुपए के नोट बरामद किए गए हैं. आरोपी नगर निगम में अपने कक्ष के अंदर ही रिश्वत ले रहा था.

लोकायुक्त पुलिस के अनुसार, उपायुक्त पांडे के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है. कार्रवाई पूरी होने पर उपायुक्त को निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया.