आज शुक्रवार दी॰ 13.10.17 कार्तिक कृष्ण नवमी को राधा-कृष्ण का पूजन श्रेष्ठ रहेगा। श्रीकृष्ण की प्राणसखी राधारानी के ही कारण श्रीकृष्ण सर्वेश्वर माने जाते हैं। तभी इन्हें राधारमण कहकर बुलाया जाता है। श्रीकृष्ण का व्यक्तित्व राधा के बिना अधूरा है क्योंकि राधा ही कृष्ण की मूल शक्ति हैं। इसी कारण राधा का नाम सदैव कृष्ण से पहले आता है। श्रीराधा ही जीवन को सुरों से सजा देती हैं। राधा स्वयं में समृद्धि व संपन्नता समेटे हुए हैं क्योंकि राधा को ही मूल श्रीया कहा गया है अर्थात स्वयं महालक्ष्मी। शास्त्रनुसार श्रीया के दो स्वरूप हैं। पहली लक्ष्मी व दूसरी राज्यलक्ष्मी। इनमें से लक्ष्मी हमेशा विष्णु संग रहती हैं व राज्यलक्ष्मी पराक्रमी राजाओं के साथ विचरती हैं। ब्रह्म-वैवर्त पुराण के अनुसार, विष्णु के दक्षिण अंग से लक्ष्मी व वामांग से श्रीया अर्थात राधा का जन्म हुआ था। ब्रह्म-वैवर्त पुराण के अनुसार गोलोक निवासी राधा को श्रीविद्या कहा गया है। इनकी साधना से स्थाई धन प्राप्त होता है, व्यक्ति की हर मनोकामना पूरी होती है। मनुष्य पापों से मुक्त होकर मोक्ष को प्राप्त होता है।


विशेष पूजन विधि: मध्याह्न के समय राधाकृष्ण का पूजन करें। घर की उत्तर दिशा में सफेद कपड़े पर जल से भरा कलश स्थापित करें। चौकी पर राधा-कृष्ण का चित्र रखकर उसका विधिवत पूजन करें पंचामृत चढ़ाएं, 16 श्रृंगार आर्पित करें। घी का दीप करें, अगर की धूप करें, गुलाबी फूल चढ़ाएं। अबीर से तिलक करें। मखाने की खीर का भोग लगाएं तथा इस विशेष मंत्र से 1 माला जाप करें। पूजन के बाद खीर व 16 श्रृंगार किसी सुहागन ब्राह्मणी को दान दे दें।


पूजन मुहूर्त: शाम 18:02 से रात 20:50 तक।


पूजन मंत्र: श्रीं राधासर्वेश्वर नमः॥


आज का शुभाशुभ
आज का अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:44 से दिन 12:29 तक।


आज का अमृत काल: रात 00:44 से रात 02:16 तक।


आज का राहु काल: प्रातः 10:41 दिन 12:07 तक। 


आज का गुलिक काल: प्रातः 07:50 से प्रातः 09:15 तक।


आज का यमगंड काल: शाम 14:58 से शाम 16:24 तक।


यात्रा मुहूर्त: आज दिशाशूल पश्चिम व राहुकाल वास दक्षिण में है। अतः दक्षिण-पूर्व दिशा की यात्रा टालें।


आज का गुडलक ज्ञान
आज का गुडलक कलर:
मैजेंटा।


आज का गुडलक दिशा: वायव्य।


आज का गुडलक मंत्र: ॐ स्कंदाय नमः॥


आज का गुडलक टाइम: शाम 15:12 से शाम 16:12 तक।


आज का बर्थडे गुडलक: स्थिर धनागमन हेतु राधारमण पर चढ़ा इत्र रुई में लेकर पर्स में रखें।


आज का एनिवर्सरी गुडलक: पारिवारिक समृद्धि हेतु घर के वायव्य कोण राधे-गोविंद का चित्र लगाएं।


गुडलक महागुरु का महा टोटका: मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए बांसुरी पर मोरपंख बांधकर राधा-कृष्ण मंदिर में चढ़ाएं।