इस्लामाबादः पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (68) के लिए आज का दिन काला दिवस हो सकता है । भ्रष्टाचार विरोधी पनामा पेपर्स मामले में नवाज को दोषी करार दिए जाने पर 13 अक्तूबर  कैद की सजा भी सुनाई जा सकती है। सुप्रीम कोर्ट ने 28 जुलाई को शरीफ को प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराया था। इसके बाद उन्हें पद से हाथ धोना पड़ा।

नैशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) ने शरीफ, उनके परिवार के सदस्यों और वित्त मंत्री इशाक डार के खिलाफ भ्रष्टाचार और मनी लांड्रिंग का मामला दायर किया है। यह मामला इस्लामाबाद और रावलपिंडी की अकाउंटेबिलिटी अदालत में विचाराधीन है। अदालत में हाजिर होने का दबाव बनाने के लिए भ्रष्टाचार विरोधी निकाय ने शरीफ और उनके परिवार के सदस्यों के बैंक खाते फ्रीज कर दिए हैं और उनकी संपत्ति जब्त कर ली है।

सोमवार को शरीफ अदालत में हाजिर नहीं हो सके थे। बीमार पत्नी कूलसूम के इलाज के सिलसिले में लंदन में रहने के कारण वह पेश नहीं हो पाए। अदालत ने तब दोषी ठहराने के लिए 13 अक्तूबर की तारीख तय की। शरीफ परिवार ने मामले को राजनीति प्रेरित कहा है। शरीफ के दोनों बेटों हसन और हुसैन को नैशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) अदालत ने पेश होने के लिए 30 दिन की मोहलत दी है। अदालत ने कहा है कि अगर वे पेश नहीं हुए तो उन्हें अपराधी घोषित कर दिया जाएगा।

पाकिस्‍तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के एक वरिष्‍ठ नेता ने बताया कि नवाज शरीफ आज सुनवाई के दौरान मौजूद नहीं रहेंगे, क्‍योंकि वह लंदन से अब तक लौटे नहीं हैं, जहां वह अपनी पत्‍नी कुलसूम की देखभाल में व्‍यस्‍त हैं। उन्‍होंने कोर्ट में पेश होने के लिए एक प्रतिनिधि को नामित किया है और आरोपों से इंकार किया।हालांकि एक टीवी फुटेज में  नवाज शरीफ की बेटी मरियम और दामाद मोहम्‍मद सफदर सुनवाई के लिए कोर्ट परिसर में पहुंचते दिखे हैं। पिछली सुनवाई के दौरान भी दोनों मौजूद थे।