पंचकूला: हनीप्रीत अौर पंचकूला हिंसा संबंधी पूछताछ के लिए एसआईटी कई बार विपासना को बुला चुकी है लेकिन वह हर बार कोई न कोई बहाना बनाकर पूछताछ में शामिल नहीं हो रही। आज पुलिस की सख्ताई के बाद डेरे की चेयरपर्सन विपासना पूछताछ में सहयोग देने के लिए सिरसा से पंचकूला पहुंची। सूत्रों के मुताबिक थाने पहुंचते ही पुलिस विपासना को इन्वेस्टीगेशन रूम लेकर गई। यहां अधिकारियों के साथ हनीप्रीत पहले से ही मौजूद थी। जैसे ही विपासना ने हनीप्रीत को देखा वो उसके गले लग गई और जोर-जोर से रोने लगी। थाने पहुंचने पर विपासना मीडिया से बचती नजर आई। सवालों को दरकिनार करते हुए वह आगे बढ़ गई। 

एक दिन पहले हनीप्रीत ने एसआईटी को बताया कि उसके पास एक मोबाइल और लैपटॉप था, जिसे पंचकूला की घटना के बाद डेरा चेयरपर्सन विपासना इंसा को सौंप दिया था। उसने एसआईटी को बताया कि 26 अगस्त को ही सिरसा डेरे में मोबाइल व लैपटॉप विपासना को दे दिया था। इसके अलावा विपासना के पास हनीप्रीत की डायरी मौजूद है, जिसमें  डेरे से जुडी घटनाओं और लेन देन का ब्यौरा मौजूद है। जिसके बाद पुलिस ने सख्त रुख अपनाते हुए विपासना को जांच में शामिल होने के लिए समन भेजा। हालांकि पंचकूला पहुंचकर विपासना ने मीडिया के किसी भी सवाल का जबाव नहीं दिया।  

इससे पहले एसआईटी विपासना को तीन बार समन भेज चुकी है। पहले दो बार तो विपासना बामारी का हवाला देकर जांच से बचती रही है। तीसरा नोटिस भेजने के साथ ही पुलिस ने जब सख्ताई से विपासना को पेश होने अौर बहाना न चलने की बात कही तो विपासना जांच में शामिल होने के लिए तैयार हुई। कहा जा रहा है कि हनीप्रीत अौर विपासना को आमने-सामने बैठा कर पूछताछ हो सकती है। जिसके बाद कई अहम खुलासे होने की संभावान है। दरअसल, पंचकूला पुलिस ने विपाशना से पूछने के लिए 40 सवालों की लिस्ट तैयार की है। ये सवाल हनीप्रीत, दंगों की प्लानिंग से लेकर दंगा कराने से जुड़े हैं।