मध्य प्रदेश में अब मिट्टी के तेल पर मिलने वाली सब्सिडी सीधे हितग्राही के बैंक खाते में जाएगी.  राज्य सरकार ने राशन दुकानों पर मिलने वाले केरोसिन को बंद करने की तैयारी कर ली है.

प्रदेश में राशन दुकानों से सस्ता अनाज देने की व्यवस्था को लेकर बंद करने को लेकर मचे बवाल के बाद अब पीडीएस के तहत मिलने वाला केरोसिन बंद होगा.

राज्य सरकार ने राशन दुकान से केरोसिन देना बंद कर उपभोक्ताओं के बैंक खातों में सीधे सब्सिडी देने की तैयारी कर ली है. इसके लिए सरकार ने पात्र हितग्राहियों से उनके परिवार सदस्यों के आधार नंबर, बैंक खाता और परिवार के एक सदस्य के मोबाइल नंबर की जानकारी  समग्र पोर्टल पर दर्ज करना शुरू कर दिया है.

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे ने बताया कि खंडवा जिले से प्रायोगिक तौर पर इस योजना की शुरुआत की जा रही है.

वहीं सरकार की कवायद के विरोध में कांग्रेस उतर आई है. कांग्रेस ने सरकार के कदम को
गरीबों के घर में डाका डाल सुविधाएं छीनने का आरोप लगाया है.

हालांकि, सरकार का कहना है कि उसकी मंशा है कि धीरे-धीरे पूरे प्रदेश में पीडीएस के तहत के मिलने वाले सस्ते केरोसिन की बिक्री को बंद कर हितग्राही के बैंक खाते में सीधे राशि जमा की जाये.

मौजूदा समय में राशन दुकानों पर केरोसिन करीब 23 रुपए प्रति लीटर मिलता है,जबकि खुले बाजार में 40 से 45 रुपए कीमत है.

बहरहाल सरकार की नई कवायद पर विवाद खड़ा होना शुरु हो गया है और पहले पीडीएस के तहत राशन बंद करने से पीछे हटने वाली सरकार अब केरोसिन के जरिए फिर से सब्सिडी को बैंक खातों में पहुंचाकर पीडीएस प्रणाली के पुराने सिस्टम को खत्म करने की तैयारी में है.