अमरावती: वाईएसआर कांग्रेस सांसद बुत्ता रेणुका आखिरकार आज आंध्र प्रदेश की सत्तारूढ़ तेलुगु देशम पार्टी में शामिल हो गईं। उन्होंने तीन साल पहले भी तेदेपा में शामिल होने की कोशिश की थी। तेदेपा सुप्रीमो और मुख्यमंत्री एन.चंद्रबाबू नायडू ने आज सुबह यहां अपने आवास पर कुरनूल से सांसद और उनके समर्थकों का पार्टी में स्वागत किया। तेदेपा में शामिल होने वाली रेणुका वाईएसआर कांग्रेस की दूसरी सांसद हैं। इससे पहले कुरनूल जिले में भी एस पी वाई रेड्डी पार्टी छोड़कर तेदेपा में शामिल हो चुके हैं। वाईएसआर कांग्रेस ने रेड्डी के खिलाफ लोकसभा अध्यक्ष को याचिका दी थी और दल-बदल विरोधी कानून के तहत उसे अयोग्य करार देने की मांग की थी लेकिन पिछले तीन वर्षों से उनकी याचिका लंबित है।

 

वाईएसआर कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ पार्टी ने कुरनूल की सांसद को रुपयों का लालच दिया। वर्ष 2014 के चुनाव के बाद लोकसभा में आंध्र प्रदेश से पार्टी के आठ सांसद थे लेकिन अब यह संख्या कम होकर छह रह गई है। रेणुका व्यवसायी हैं और राजनीति में नई हैं। उन्होंने मई 2014 में चुनाव जीतने के तुरंत बाद तेदेपा में शामिल होने की कोशिश की थी। लेकिन वाईएसआर कांग्रेस नेतृत्व ने उन्हें जगमोहन रेड्डी के नेतृत्व वाली पार्टी ना छोडऩे के लिए राजी कर लिया था। इसके बावजूद उनके पिछले कुछ वर्षों से तेदेपा नेताओं के साथ करीबी संबंध रहे हैं। रेणुका ने मुख्यमंत्री नायडू की मौजूदगी में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं राज्य के विकास के लिए तेदेपा से जुड़कर खुश हूं। मुख्यमंत्री राज्य का विभाजन होने से हुए नुकसान के बाद राज्य का विकास करने के लिए प्रयासरत हैं।’’  तेदेपा सूत्रों ने बताया कि रेणुका जल्द ही कुरनूल में एक जनसभा आयोजित करेंगी।