लखनऊ. सुख, समृद्धि और वैभव का प्रतीक धनतेरस का त्योहार मंगलवार को प्रदेश में धूमधाम से मनाया गया। राजधानी लखनऊ में महालक्ष्मी के स्वागत के लिए शहर में स्थित सोने, चांदी, हीरे के गहने, इलेक्ट्रॉनिक आइटम, साड़ी, रेडीमेड कपड़े, मिठाइयां, कम्प्यूटर, कार और बाइक के शोरूम दुल्हन की तरह सजे हुए नजर आए। धनतेरस पर गहने, कार, बाइक घर लाने के लिए लोगों ने एक दिन पहले ही सोमवार देर रात बुकिंग करा ली थी। मंगलवार को यूपी में 25 सौ करोड़ और राजधानी लखनऊ में 3 सौ करोड़ रुपये के बिक्री का अनुमान है। पिछले साल की अपेक्षा व्यापारियों के मालों के बिक्री में गिरावट आई है। व्यापारियों ने इसके लिए नोटबंदी को जिम्मेदार ठहराया है।

पिछले बार की तुलना में इस बार कम हुआ कारोबार

- आदर्श व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष संजय गुप्ता के मुताबिक़, "पिछले साल लखनऊ में धनतेरस पर लगभग 5 सौ करोड़ का कारोबार हुआ था लेकिन इस बार नोट बंदी और जीएसटी लागू होने के चलते 30 परसेंट तक सेल डाउन हो गई है।

- इस बार लखनऊ में लगभग 3 सौ करोड़ का कारोबार हुआ है। जो की पिछले साल की तुलना में काफी कम है। व्यापारियों को मार्किट डाउन होने का अंदेशा पहले चल गया था। लेकिन इतना ज्यादा डाउन होगा। इसके बारे में किसी को भी उम्मीद नहीं थी।"

सबसे ज्यादा ज्वैलरी और ऑटोमोबाइल की हुई बिक्री

- धनतेरस पर सबसे ज्यादा कारोबार ज्वैलरी और ऑटोमोबाइल का हुआ। इसमें 50 करोड़ रूपये की कारें, 30 करोड़ की टू व्हीलर 150 करोड़ का सोना चांदी और डायमंड 50 करोड़ का बर्तन और लगभग 50 करोड़ रूपये का इलेक्ट्रोनिक सामानों की बिक्री हुई। कारोबारियों ने बताया कि अबकि बार राजधानी के अधिकांश ज्वैलरी शोरूम में 50-50 लाख रुपये के डायमंड सेट को सजाया गया था।

-धनतेरस की पूर्व संध्या पर 5 से 9 लाख रुपये के अनब्रांडेड सोने के सेट ने भी लोगों को खूब आकर्षित किया।

 

सोने के छोटे आइटम से सजा बाज़ार

- चौक के कारोबारी आदीश जैन के मुताबिक़, "धनतेरस के दिन सोने के छोटे-छोटे आइटम चेन, टॉप्स, बिंदी, झुमकी, कंगन, हार, अंगूठी की बंपर सेल होती है। पिछले साल धनतेरस पर 92 किलो सोने के अनब्रांडेड गहने 28 करोड़ 22 लाख रुपये में बिके थे।

- जबकि 3.60 क्विंटल चांदी के गहने 1.70 करोड़ में बिके थे। वहीं, वर्ष 2015 में धनतेरस पर 85 किलो सोना एवं 3 क्विंटल चांदी क्रमश: 23 करोड़ 50 लाख एवं 1 करोड़ 25 लाख रुपये की बिकी थी।"

सोने में निवेश

- लखनऊ सराफा एसोसिएशन के महामंत्री प्रदीप कुमार अग्रवाल के मुताबिक़, "केंद्र सरकार ने 2 लाख रुपये तक सोने, चांदी, डायमंड के गहने खरीदने पर पैन कार्ड की अनिवार्यता खत्म कर दी है। इससे सोने में काफी लोगों ने निवेश किया है। इससे भविष्य में सोना और महंगा होने की उम्मीद है।"

गणेश-लक्ष्मी की बुकिंग

- धनतेरस के एक दिन पहले सोमवार से ही सोने एवं चांदी के गणेश-लक्ष्मी, पूजा थाली, चांदी के दीपक, मंदिर और सिक्कों की बुकिंग शुरू हो चुकी थी। धनतेरस पर भीड़ अधिक होने के कारण ग्राहकों ने पहले ही बुकिंग शुरू करा दी है।

 

सोने पर हावी रही चांदी

- सोने की बढ़ी कीमतों का असर धनतेरस पर देखने को मिला। चौक,अमीनाबाद, गोमतीनगर और आलमबाग की जूलरी शॉप में सोने से ज्यादा चांदी के आइटम की सेल हुई। चौक एक जूलरी शॉप के मालिक हर्ष वर्धन ने बताया, " सोने की सेल से ज्यादा चांदी के सिक्के, मूर्तियों और बर्तनों की डिमांड और सेल सोने के मुकाबले 4 गुना ज्यादा है। एंटिक गोल्ड आइटम ज्वैलरी शॉप को जरूर अच्छा रेस्पॉन्स बिल रहा है।"

रेट : सोना रुपये प्रति 10 ग्राम और बाकी रुपये प्रति किलो)

धातु -- 2016 - 2017

सोना -- 30,460 - 30,650 

चांदी -- 43,200 -- 41,300

तांबा- - 450-1000 - 500-1200

पीतल- - 350-700 - 400-900

 

ये माल इतना बिका

मोबाइल --75,000 पीस

होम थिएटर --25,000 पीस

एलईडी --15,000 पीस

लैपटॉप --10000 पीस

बाइक- -9000

कार --3500

पूजन सामग्री--कीमत

चांदी के गणेश-लक्ष्मी-- रुपये 500 से 1.75 लाख

चांदी का दीपक--रुपये 250 से 500

चांदी के मंदिर--रुपये 5000 से 25,000

कुल कारोबार रुपये (करोड़ में)

बुलियन व गहने —400 करोड़

ऑटोमोबाइल —400 करोड़

इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स -200 करोड़

कपड़े --100 करोड़

फर्नीचर --50 करोड़

मिष्ठान, ड्राई फ्रूट --150 करोड़

 

बाइक के साथ हेलमेट मुफ्त

- धनतेरस पर बाइक के शौकीन लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बाइक के साथ हेलमेट फ्री मिल रहा है।

- इंदिरा नगर के एक बाइक शोरूम के मालिक आर के शर्मा ने बताया कि धनतेरस पर 200 बाइक की डिलिवरी होनी है।

- ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए बाइक के साथ हेलमेट मुफ्त दिया जा रहा है, इससे हेलमेट के प्रति लोगों की अवेयरनैस बढ़े।

- उन्होंने बताया कि ब्लैक और ब्लू कलर कॉम्बिनेशन की बाइक की डिमांड काफी है, बाइक के अलावा स्कूटर के भी काफी खरीदार आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि फ्री हेलमेट की स्चीम धन तेरस क दिन तक ही रहेगी।