नई दिल्ली: बॉलीवुड के जाने माने लेखक सलीम खान का आज अपना 82वां जन्मदिन मना रहे हैं. सलीम खान का जन्म 24 नवंबर 1935 को मध्य प्रदेश के इंदौर में हुआ था.यूं तो सलीम खान ने फिल्म इंडस्ट्री को कई सुपरहिट फिल्में दी हैं.

 

लेकिन अपने शुरुआती करियर में उन्हें काफी स्ट्रगल का सामना भी करना पड़ा था. 70 और 80 के दशक में सलीम अकेले नहीं बल्कि जावेद अख्तर के साथ मिलकर काम करते थे. इस जोड़ी ने एक साथ करीब 10 हिट फिल्में बॉलीवुड को दी थी. जिनमें हाथी मेरे साथी, सीता और गीता, शोले जैसी कल्ट फिल्में शामिल हैं.

 

हीरो बनने मुंबई आए थे सलीम

 

सलीम साहब के लेखन का भला कौन कायल नहीं है, लेकिन क्या आप जानते हैं उनका पहले प्यार स्क्रिप्ट राइटिंग नहीं बल्कि एक्टिंग थी. जी हां, एक इंटरव्यू में सलीम खान ने बताया था कि वे करीब 23 साल के जब इंदौर में वो एक फिल्म निर्माता के बेटे की शादी में शरीक होने गए थे. वो शादी और किसी के बेटे की नहीं बल्कि ताराचंद बड़जात्या के बेटे की थी.

 

उसी दौरान एक नामी निर्देशक ने सलीम को मुंबई आकर काम करने का न्योता दिया. हालांकी इसपर सलीम पहले तो थोड़ा हिचकिचाए क्योंकि उन्हें फिल्म जगत के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी लेकिन बाद में मुंबई जाने का फैसला किया. लेकिन वो बतौर अभिनेता अपनी कोई खास पहचान बना नहीं पाए.

लव लेटर्स ने बना दिया लेखक

 

एक इंटरव्यू में सलीम खान बताते हैं कि असल में उन्होंने लेखन का कोई खास शौक नहीं था लेकिन वो अपने दोस्तों के लिए प्रेम पत्र लिखा करते थे. जिससे उनकी लेखनी का सफर शुरू हुआ. वो कहते हैं कि किसी भी लेखक की यात्रा वहीं से शुरू होती है क्योंकि उस दौर में सोशल मीडिया और फोन नहीं हुआ करते थे.

 

सलीम ये भी बताते हैं कि प्यार में धोखा खाने के बाद ही उन्होंने मुंबई का रुख किया, उनका कहना है कि वो अपनी प्रेमिका से विवाह केवल इसलिए नहीं कर पाए क्योंकि लड़की के परिवारवालों को एक कामयाब लड़का चाहिए था अपने बेटे के लिए. तभी उन्होंने तय किया कि वो अपने आप को साबित कर के दिखाएंगे.

 

ऐसे टूटी थी सलीम-जावेद

 

एक के बाद एक सुपरहिट फिल्में देने वाली जोड़ी आखिर क्यों टूट गई ये सवाल तो सबके जेहन में आता है. सलीम बताते हैं कि एक दिन अचानक जावेद आए और कहा कि मैं अलग होना चाहता हूं. तो सलीम ने सवाल किया ये खयाल अचानक तो नहीं आया होगा लेकिन अगर तुम अलग होना चाहते हो तो ठीक है. सलीम कहते हैं कि उस वक्त मुझे बहुत दुख हुआ और गुस्सा भी आया लेकिन क्योंकि वो तय कर चुके थे इसलिए उन्होंने जावेद को रोका नहीं.

 

प्यार में धोखा खाई हेलेन को मिला सलीम का साथ

 

वैसे तो आज के दौर में सलीम खान की फैमेली सिर्फ बॉलीवुड ही नहीं पूरे देश के लिए एक मिसाल है. परिवार में हेलेन और सलीम खान की पहली पत्नी सलमा दोनों ही प्यार से रहती हैं. लेकिन शुरुआती दिनों में ऐसा नहीं था. अपने करियर के शुरुआती दौर में हेलेन का रिश्ता निर्माता पीएन अरोड़ा से जुड़ा. लेकिन इस प्यार को न जाने किसकी नजर लगी और रिश्ता टूट गया.

 

salim

 

इस रिश्ते के टूटने के बाद हेलेन केवल भावनात्मक रूप से ही नहीं टूटीं बल्कि उनका करियर भी खत्म होने की कगार पर आ गया था और वो एक-एक पैसे की मोहताज हो गई थीं. ऐसे में सलीम खान ने न सिर्फ उनको संभाला बल्कि उनके करियर को भी एक नई उड़ान दी. इसके बाद इस इश्क ने सन 1981 में शादी का रूप ले लिया. हालांकि शुरुआती दौर में सलीम का परिवार और बच्चे उन्हें पसंद नहीं करते थे लेकिन आज हेलेन सबके दिलों पर राज करती हैं.

 

PM मोदी से है खास रिश्ता

 

एक इंटरव्यू में सलीम खान बताते हैं कि नरेंद्र मोदी से उनकी पहली मुलाकात एक कार्यक्रम में हुई थी. उस वक्त खूब बातें हुईं और वहां से इस दोस्ती की जो शुरुआत हुई वो आज भी बादस्तूर जारी है.