राजस्थान की राजधानी जयपुर की एक अदालत ने लश्कर-ए-तैयबा के आठ आतंकियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. एडीजे-17 अदालत ने इन सभी पर 11-11 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है.

 

जज़ पवन गर्ग ने इन्हें देश में दंगा फैलाने और अन्य आतंकी व राष्ट्र विरोधी गतिविधियां चलाने का दोषी पाया है. कोर्ट ने फैसले में कहा है कि ये देश में व्यापक स्तर पर अस्थिरता फैलाना चाहते थे.

 

लश्कर-ए-तैयबा पाकिस्तानी आतंकी संगठन है और मुम्बई हमले के मास्टर माइंड आतंकी हाफिज सईद इसका सरगना है. इस आतंकी संगठन पर अमेरिका सहित कई देशों ने प्रतिबंध लगा रखा है.

 

कोर्ट ने इन आठों को दोषी मानते हुए विधि विरुद्ध क्रिया-कलाप निवारण अधिनियम सहित अलग-अलग धाराओं में सजा सुनाई है. साथ ही 11-11 लाख रुपए का अर्थदंड लगाया है. अदालत ने यह भी माना कि ये सभी देश में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी नेटवर्क को फैलाने की फिराक में थे, ताकि देश में आतंकी हमले भी हो सकें. वक्त रहते पकड़े जाने से ये अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हुए.

 

 

बुधवार को जज़ पवन गर्ग ने लंच में भी फैसला लिखवाया. यह पूरा फैसला करीब 111 पेजों का है. इन सभी आतंकियों के खिलाफ धारा 13, 18, 18बी और धारा 20 के तहत सजा सुनाई गई है.