राजस्थान के क्रिकेट खिलाड़ियों और क्रिकेट प्रेमियों को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने बड़ी खुशखबरी दी. बीसीसीआई ने सोमवार को राजस्थान क्रिकेट असोसिएशन (आरसीए) पर लगे तीन साल के बैन को हटा दिया है.

 

बीसीसीआई की 11 दिसंबर को दिल्ली में हुई स्पेशल जनरल मीटिंग (एसजीएम) आरसीए पर प्रतिबंध हटाए जाने पर फैसला लिया गया. इसकी जानकारी मीटिंग के बाद बोर्ड के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने दी.

 

उल्लेखनीय है कि बीसीसीआई ने इसी साल जून में ललित मोदी को हिंदुस्तान की क्रिकेट से पूरी तरह बाहर कर दिया था. बीसीसीआई के दबाब के बाद राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन ने ललित मोदी की क्रिकेट की जड़ में वार किया. ललित मोदी की अगुवाई वाले नागौर जिला क्रिकेट को निलंबित कर दिया.

 

इतना नहीं मोदी समेत नागौर जिला क्रिकेट की पूरी टीम को भी सस्पेंड कर दिया. ललित मोदी के लिए ये बड़ा झटका था क्योंकि इस जिला संघ की कुर्सी की बदौलत ही वह अप्रत्यक्ष तौर पर आरसीए की सत्ता में बने हुए थे. कई बार आरसीए का चुनाव हारने के बावजूद दबदबा कम नहीं हुआ. इस दबदबे की वजह से बीसीसीआई में ललित मोदी के विरोधी परेशान थे. वह भले ही भारत छोड़कर भाग गए हों लेकिन आरसीए का अध्यक्ष रहते हुए लंदन में बैठकर ही पूरा नियंत्रण रखा. बीसीसीआई ने चुनाव से पहले ही आरसीए को धमकी दी थी कि मोदी को चुनाव लड़ने से. यही नहीं अगर वह अध्यक्ष चुन लिया गया तो आरसीए को निलंबित कर दिया जाएगा.