महिलाओं के साथ सबसे अधिक भेदभाव करने वाले देशों की सूची में अफगानिस्तान को अक्सर शामिल किया जाता है. यहां महिलाओं को बेहद कम अधिकार हासिल हैं और कई बार तो उन्हें समाज में मामूली बात पर प्रताड़ित भी किया जाता है. अगर कोई लड़की पर समाज को शक हो जाए कि वह शादी से पहले पुरुषों के साथ घूमती है तो उसे वर्जिनिटी टेस्ट कराने पर भी मजबूर कर दिया जाता है. ऐसी ही प्रथा की शिकार हुई थी 18 साल की अफगानी लड़की नेदा. उसने खुद ही मीडिया को अपने साथ हुए बर्ताव के बारे में विस्तार से बताया.


जानने वाले दो डॉक्टरों ने किया वर्जिनिटी टेस्ट


एक रात नेदा थिएटर से लौट रही थी और घर में पहुंचने में देर हो जाती, इसलिए उसने पुरुष दोस्तों से लिफ्ट ले ली. लेकिन इसके बाद जो हुआ उसने नेदा को लंबे वक्त के लिए परेशान कर दिया. बामियान में रहने वाली नेदा पर शादी से पहले सेक्स करने के आरोप लगे और उसका वर्जिनिटी टेस्ट कराया गया. यह 2 साल पहले की बात है.


बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टरों ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि महिला का कौमार्य भंग नहीं हुआ है. लेकिन लड़की की जिंदगी आसान नहीं हुई. कोर्ट में अब भी इससे जुड़ा मामला चल रहा है और उसकी मुश्किलें खत्म नहीं हुई है.


एक रिपोर्ट के मुताबिक, अफगानिस्तान में महिलाओं की मर्जी के बिना की वर्जिनिटी टेस्ट कराए जाते हैं. हालांकि, मानवाधिकार आयोग ऐसे टेस्ट को गलत बताता रहा है.


अफगानिस्तान में कई बार शादी से पहले रिश्ता रखने के आरोप में लड़कियों की ऑनर किलिंग भी कर दी गई है. कई मामलों में लड़कियों को जेल भी जाना पड़ा है. स्थानीय कोर्ट से भी कई बार महिलाओं को राहत नहीं मिलती और कोर्ट वर्जिनिटी टेस्ट का आदेश दे देते हैं.