हर साल बर्ड फ्लू वायरस के मामले सुन ही जाते है, जिसमें मुर्गियों की मौत सबसे ज्यादा होती हैं। यह फ्लू अन्य पक्षियों में भी फैल सकता हैं और यह संक्रमण इंसानों के लिए भी खतरा बन सकते हैं। कर्नाटका के बैंगलूरू में बर्ड फ्लू H5 वायरस पॉजीटिव पाया गया हैं। इस बात की पुष्टि NIHSAD ने की हैं हालांकि यह वायरस कंट्रोल में हैं जिससे इंसानों पर इसका कोई प्रभाव नहीं देखने को मिला। 


आपको बता दें कि बर्ड फ्लू एक ऐसा वायरल इंफैक्शन हैं जो ज्यादातर मुर्गियों को होता हैं, जिसके बाद यह अन्य पक्षियों भी फैलता हैं। इस इंफैक्शन की शुरुआत पक्षियों के मल से फैलती हैं। इंसानों में वायरस उन पक्षियों के संपर्क में आने या चिकन का सेवन करने से आती हैं। इस वायरस के दौरान चिकन खाने से परहेज करना चाहिए। चलिए आपको बताएं कि इस खतरनाक वायरस के फैलने के लक्षण क्या है और आप इससे कैसे बच सकते है। 


बर्ड फ्लू के लक्षण

-  बहुत तेज़ बुखार रहना

-  सर्दी-ज़ुकाम और नाक बहना

-  गले में सूजन

-  हर वक़्त जी मिचलाना या उलटी होना

-  पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना

-  सिर में तेज़ दर्द।

-  लगातार दस्त होना


कैसे खुद का करें बर्ड फ्लू से बचाव

-  अगर कोई शख्स या आप इस इंफैक्शन के शिकार हैं तो खांसते-छींकते समय मुंह व नाक कपड़े से ढककर रखें।

- भीड़भाड़ वाले इलाके व पोल्ट्री फार्म में ना जाएं।

- अपने नाक, मुंह व आंखों को छूने के बाद हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोएं और सूखे कपड़े से साफ कर लें।

-  जगह-जगह न थूकें।

- खांसी, छींके तथा बुखार से पीड़ित मरीजों से कुछ दूरी पर ही रहें।

- भरपूर नींद लें।

-  बर्ड फ्लू फैला हैं तो चिकन व अंडे का उपयोग न करें। 

- इस बीमारी से पीड़ित मरीज से हाथ मिलाने व गले मिलने से परहेज करें। 

-  पानी का अत्यधिक प्रयोग करें व पौष्टिक आहार लें।

-  लक्षण दिखने पर तुरंत डाक्टरी सलाह लें।