राजस्थान के अजमेर जिले की एससी एसटी कोर्ट ने गुरुवार को एक नाबालिग से दुष्कर्म मामले में आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. मामला 2015 का है. घटना ब्यावर सदर थाना इलाके के मुंडिया गांव की है.


आरोपी सुमेर सिंह पीड़िता से एक शादी में मिला था और तब से ही वह उसे परेशान करने लगा था. इस मामले में पीड़िता की मां ने आरोपी को कई बार समझाया लेकिन वो नहीं माना और वह नाबालिग को उठाकर ट्रक में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया.


दुष्कर्म के बाद तस्वीरों से करता रहा ब्लैकमेल

दुष्कर्म के बाद आरोपी ने पीड़िता की आपत्तिजनक तस्वीरें भी खींची, जिसके आधार पर वह पीड़िता को कई बार ब्लैकमेल करके उसके साथ दुराचार करता रहा. बाद में आरोपी ने उन तस्वीरों को व्हाट्सऐप पर शेयर भी कर दिया.



रिपोर्ट के मुताबिक, जब पीड़िता को इसकी ख़बर लगी तो उसने पुलिस में सुमेर सिंह सहित तीन अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कराया. मामले में पुलिस ने सुमेर सिंह को गिरफ्तार कर लिया, जिस पर कोर्ट ने गुरुवार को उसे आजीवन कारावास और आर्थिक दंड से दंडित किया.


इस मामले में न्यायाधीश ब्रिजकुमारी शर्मा ने विशेष टिप्पणी करते हुए इसे घिनौना अपराध बताया. इस मामले में अभियोजन पक्ष की और से 6 गवाह और 27 दस्तावेज पेश किए गए.