मुंबई। इस समय बॉलीवुड के सबसे चर्चित सेलेब्स में से एक हैं करण जौहर! या यह कहें कि पिछले कई महीनों से ये किसी न किसी वजह से सुर्ख़ियों का हिस्सा रहे हैं और वो भी अपने झगड़ों की वजह से। करण की ज़िन्दगी भी किसी फ़िल्म से कम नहीं है, हर थोड़े दिनों में उनके साथ कुछ ऐसा होता है कि वो विवादों के दंगल में घिर जाते हैं। ताज़े दंगल की बात की जाए तो यह आप भी जानते होंगे कि इन दिनों करण बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत से भिड़े हुए हैं।


बता दें कि पिछले साल करण ने कंगना को अपने शो 'कॉफ़ी विद करण' पर बुलाया था जहां बॉलीवुड की क्वीन कंगना ने उन्हें 'मूवी माफिया' का ख़िताब दिया। कंगना कि खनक यहीं ख़तम नहीं हुई, उन्होंने करण पर यह इलज़ाम भी लगाया कि वो इंडस्ट्री में 'nepotism' यानि भाई-भतीजावाद को बढ़ावा देते है। वो सिर्फ बॉलीवुड स्टार किड्स को ही सपोर्ट करते हैं। इस 'nepotism' पर बहस करण के शो तक सीमित नहीं रही, इस पर सवाल बॉलीवुड के हर सेलेब से किया गया और सभी का अपना-अपना ओपिनियन था। इस शो के बाद कंगना और करण के बीच मानो दीवार सी खड़ी हो गई। दोनों एक दूसरे को इवेंट्स, पार्टीज़ और फ़िल्मों की स्पेशल स्क्रीनिंग्स पर इग्नोर करने लगे मगर, हाल ही में दोनों ने एक बार फिर आम जनता को चौंका दिया। कंगना हाल ही में करण के शो 'इंडियाज़ नेक्स्ट सुपरस्टार' के मंच पर आई, दोनों ने एक दुसरे को गले लगाया और खूब हंसी-मज़ाक किया। शो के सेट्स से आई इस तस्वीर को देखकर अनुमान लगाया जा सकता है कि करण और कंगना की लड़ाई का किस्सा शायद यहां ख़त्म हो गया है!


वैसे, सिर्फ कंगना नहीं करण इससे पहले कई सेलेब्स से झगड़े कर चुके हैं और आप यह जानकर चौंक जाएंगे कि इस लिस्ट में उनकी बेस्ट फ्रेंड्स में से एक करीना कपूर ख़ान भी शामिल हैं। मौजूदा रिपोर्ट्स की माने तो साल 2002 में करण ने करीना को अपनी फ़िल्म 'कल हो ना हो' के लिए एप्रोच किया था जिसके लिए करीना ने शाह रुख़ ख़ान जितनी फीस की डिमांड की थी। करण ने जब उन्हें इतनी फीस के लिए मना किया तो करीना ने भी फ़िल्म के लिए साफ इनकार कर दिया। फिर क्या, सुनने में आया है कि करण उस मीटिंग के बीच में ही उठ कर चले गए और दोनों ने पूरे नौ महीनों तक एक दूसरे से बात नहीं की। साल 2003 में जब करण के पिता यश जौहर के कैंसर की बीमारी की खबर सामने आई तब करीना ने खुद करण को फ़ोन किया और यश जी को लेकर अपना दुःख ज़ाहिर किया और करण से माफ़ी भी मांगी।


करण जब अपने दोस्तों से झगड़ा करते हैं तो हैडलाइन्स बन ही जाती है। ऐसा ही एक झगड़ा हुआ था करण-काजोल का। साल 2016 में करण की फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' और काजोल के पति अजय देवगन की फ़िल्म 'शिवाय' का बॉक्स ऑफिस पर क्लैश हुआ था और इस क्लैश का असर सिर्फ बॉक्स ऑफिस नहीं बल्कि काजोल और करण की दोस्ती  पर भी पड़ा। कहा जाता है कि काजोल ने करण को अपनी फ़िल्म की तारीख़ बदलने के लिए कहा था जिसके लिए करण राज़ी नहीं थे वहीं, खुद अजय भी 'शिवाय' की रिलीज़ डेट को आगे-पीछे करने से इनकार कर रहे थे। करण और काजोल का यह झगड़ा इतना बड़ा बन गया कि करण ने अपनी ऑटो-बायोग्राफी में काजोल के साथ अपने सारे रिश्ते खत्म करने की बात भी लिखी वहीं, काजोल ने भी उनसे अपनी दोस्ती तोड़ दी। हालांकि, फिर दोनों ने सोशल अकाउंट्स पर एक दूसरे की तस्वीरों को लाइक करना शुरू कर दिया और दोनों में दोस्ती हो गई और अब All Is Well है।


करण का एक और झगड़ा जो दोस्ती में बदल गया और वो था डायरेक्टर अनुराग कश्यप से। करण और अनुराग की फ़िल्मों को देखकर आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि दोनों एक दूसरे से कितने अलग हैं। एक इंटरव्यू में करण ने खुद कहा कि अनुराग ने अपने ब्लॉग पर करण और उनकी फ़िल्मों के बारे में बहुत कुछ लिखा। इस इंटरव्यू में मौजूद अनुराग कश्यप ने भी यह बात स्वीकारी कि वो करण को जानते नहीं थे, उन्हें जो भी पता था उससे उन्हें भी यही लगता था कि करण भाई-भतीजावाद को बढ़ावा देते हैं। इन दोनों की दोस्ती हुई फ़िल्म 'क़ुर्बान' के समय, जब मेकर्स ने कहा कि इसके डायलोग अनुराग को लिखने चाहिए और फिर करण ने अनुराग को बुलाया और दोनों के बीच बातचीत शुरू हुई। इसके बाद साल 2015 में करण ने अनुराग कश्यप की फ़िल्म 'बॉम्बे वेलवेट' में भी काम किया।