नई दिल्ली योग गुरु बाबा रामदेव ने केंद्र की मोदी सरकार को बड़ा झटका दिया है. रामदेव ने मोदी सरकार के कदमों के विपरीत रुख अख्तियार करते हुए रिटेल में एफडीआई का विरोध किया है. हालांकि रामदेव ने ये भी कहा कि वे इस मुद्दे पर कोई राजनीतिक पंगा मोल नहीं लेना चाहते, इसलिए इसपर ज्यादा कुछ नहीं कहेंगे.


योग गुरु बाबा रामदेव आज पतंजलि के प्रोडक्ट अमेजॉन और फ्लिपकॉर्ट पर बिक्री के लिए उपलब्ध होने के संबंध में पत्रकारों को जानकारी दे रहे थे. इसी प्रेसवार्ता में जब उनसे पूछा गया कि क्या वे रिटेल में एफडीआई के केंद्र सरकार के कदम का समर्थन करते हैं, तो रामदेव ने कहा कि मेरा मत रिटेल में एफडीआई नहीं आना चाहिए वाला है. रामदेव ने एफडीआई पर अपना मत तो सार्वजनिक कर दिया लेकिन वे इस मुद्दे पर किसी तरह के राजनीतिक विवाद में फंसने से बचते नजर आए. उन्होंने साफ कहा कि इस मुद्दे पर मैं कोई राजनीतिक पंगा मोल नहीं लेना चाहता. क्योंकि आज शुभ कार्य (पतंजलि के प्रोडक्ट ऑनलाइन उपलब्ध होना) हो रहा है.


साफ है कि आमतौर पर विभिन्न विषयों पर खुलकर अपने विचार रखने वाले रामदेव इस मुद्दे पर चुप्पी साध गए. पूछा गया कि ऑनलाइन में तो प्रोडक्ट काफी छूट के साथ उपलब्ध होते हैं, ऐसे में उनके स्टोर से सामान कौन खरीदेगा? इस सवाल पर रामदेव ने कहा कि ऑनलाइन बाजार वाले लोग काफी निवेश लेकर बैठे हैं जिन्होंने मुफ्तखोरी की आदत लोगों को लगा दी है. ये कम होनी चाहिए, ये आदत अच्छी नहीं होती है. हम इनका इसमें सहयोग करेंगे और पतंजलि के प्रोडक्ट एमआरपी से कम दाम में यहां नहीं मिलेंगे.


इसी महीने दिव्य जल, दिवाली तक पतंजलि परिधान


रामदेव ने कहा कि इसी महीने हम अपना मिनरल वॉटर दिव्य जल लांच कर देंगे. पतंजलि के परिधान इस साल दिवाली तक, नहीं तो अगले वर्ष जनवरी तक आ जाएंगे. पतंजलि परिधान में तीन हजार प्रोडक्ट होंगे जिनमें जींस, किड्स वेयर, लेडीज वेयर, एसेसरीज आदि शामिल होंगी.  पतंजलि के उत्पादों की गुणवत्ता पर रामदेव ने कहा कि हमारे पास 300 सीनियर साइंटिस्ट, 500 लोगों की क्वालिटी कंट्रोल टीम है. हर प्रोडक्ट की कई स्तरों पर जांच होती है लेकिन हमसे फिर भी कोई गलती हुई तो हम प्रोडक्ट वापस लेंगे लेकिन देश के लोगों के स्वास्थ्य से समझौता नहीं करेंगे.


स्वदेशी समृद्धि का लॉयलटी कार्ड


रामदेव ने इस मौके पर एक सवाल के जवाब में ऐलान किया कि वे इसी महीने एक व्यवस्था लाने वाले हैं. इसके तहत स्वदेशी समृद्धि का लॉयलटी कार्ड लांच किया जाएगा और पांच करोड़ लोगों को इससे जोड़ा जाएगा. इसमें आकस्मिक मृत्यु पर पांच लाख तथा स्थायी विकलांगता पर ढाई लाख रुपये का सहयोग पतंजलि की ओर से किया जाएगा.