पूर्व अफ्रीका में कई लोग Bleeding Eye Fever के शिकार हो रहे हैं। हाल में ही एक 9 साल की बच्ची की इस बीमारी के कारण मौत हो गई। इसके अलावा एक प्रैग्नेंट महिला और एक लड़का भी इसका शिकार हो चुके है। यह बीमारी अफ्रीका, एशिया और पूर्वी यूरोप में तेजी से फैल रही हैं। शोधों के अनुसार ब्लीडिंग आईं फिवर इंसानों के लिए ज्यादा खतरनाक है।   


क्या है Bleeding Eye Fever?

यह बीमारी Crimean- कांगो हेमराहैजिक वायरस(CCHV) से फैलती हैं। इस बीमारी में आंखों से खून बहने लगता है। धीरे-धीरे आंखों और स्किन पर लाल रंग के धब्बे पड़ने लगते है। इसके अलावा मलद्वार और मुंह से खून निकलना भी इसके संकेत है। 


लक्षण

- सिरदर्द

- बुखार

- मांसपेशियों में दर्द

- स्किन पर रैशेज पड़ना

- दस्त

- हाइपोटेंशन

- जी मिचलाना

- पेट में दर्द


इलाज

इस बीमारी की रोकथाम के लिए चिकित्सक Ribavirin नामक ड्रग का इस्तेमाल कर रहे है। इम्युनोग्लोबुलिन(Immunoglobulin) थेरेपी का इस्तेमाल करते हैं। इस बीमारी के लिए कोई भी टीकाकरण उपलब्ध नहीं है।