भोपाल। कस्टम सेंट्रल एक्साइज विभाग ने लघु उद्योग निगम (एलयूएन) और भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (बीसीएलएल) को सर्विस टैक्स का रिकवरी नोटिस थमाया है। एलयूएन पर करीब तीन करोड़ से अधिक और बीसीसीएल पर करीब 33 लाख रुपए बकाया निकाला गया है। विभाग ने एलयूएन और बीसीएलएल द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले रिटर्न और हिसाब-किताब में अंतर के आधार पर यह टैक्स वसूली निकाली है।


कस्टम एवं सेंट्रल एक्साइज विभाग की निवारक शाखा ने अपनी जांच में पाया कि एलयूएन बहुत सारी सेवाएं देता है, लेकिन उनका सही सर्विस टैक्स जमा नहीं हो रहा है। इन सेवाओं में टेस्टिंग फीस, इंस्पेक्शन शुल्क, फिजिबिलिटी चार्जेस, रजिस्ट्रेशन फीस, बिजनेस आक्जेलियरी सर्विस, टेक्नीकल इंस्पेक्शन, प्रापर्टी का किराया एवं टेक्नीकल इंस्पेक्शन एवं सर्टिफिकेशन जैसी सेवाएं शामिल हैं। इन पर करीब तीन करोड़ रुपए सर्विस टैक्स के रूप में निकाला गया है। इस संबं में एलयूएन को विभाग ने डिमांड नोटिस भेजकर जवाब-तलब किया है।


उधर, राजधानी में सिटी बस के संचालन से जुड़ी कंपनी बीसीएलएल पर कुल डिमांड से ज्यादा का सर्विस टैक्स निकल रहा है। यह राशि सर्विस टैक्स रायल्टी एवं रूट ऑथराइजेशन फीस की है। आधारभूत सुविधाओं एवं विज्ञापन आदि पर टैक्स के रूप में यह राशि लगती है। विभाग ने इसे लेकर बीसीएलएल के नाम पर शोकॉज नोटिस जारी किया है।


विभागीय सूत्रों का कहना है कि दोनों संस्थाओं पर यह टैक्स उनकी व्यावसायिक गतिविधियों पर लागू किया गया है। संस्थाओं को नोटिस के जवाब के बाद व्यक्तिगत सुनवाई का अवसर भी दिया जाएगा। इसके बाद विभाग के दिल्ली स्थित ट्रिब्यूनल में अपील करने का विकल्प भी है। ट्रिब्यूनल से यदि अपील खारिज होती है तो संबंधित संस्था से उतनी ही राशि के रूप में यानी सौ फीसदी जुर्माना भी वसूला जाएगा।