पेशावर । अमेरिका ने एक बार फिर पाकिस्तान-अफगानिस्तान बॉर्डर पर आतंकी ठिकानों पर ड्रोन से हमले किया। ड्रोन हमले में तीन आतंकी मारे गए हैं। पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो शुक्रवार को उत्तरी वाजिरीस्तान में पाकिस्तान-अफगान सीमा पर अमेरिकी ड्रोन हमले में तीन संदिग्ध आतंकवादी मारे गए। जिनमें से एक तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) का प्रमुख भी शामिल था, जिसपर प्रतिबंध लगा था।


मीडिया रिपोर्टों से पता चला है कि मारे गए टीटीपी आतंकी की पहचान सजना महसूद से हुई है। जिसे हाल ही में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का प्रमुख बनाया गया था। जबकि दो अन्य मारे गए संदिग्ध आतंकी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हक्कानी नेटवर्क से ताल्लुक रखते थे। जिनमें से एक की पहचान नाइब अमीर के नाम से हुई है।


जनवरी से अबतक तीन बार किया ड्रोन से हमला 

बता दें कि इससे पहले पहले 25 जनवरी को अमेरिका ने पाकिस्तान-अफगानिस्तान बॉर्डर पर ड्रोन से हमले कर हक्कानी नेटवर्क के 2 कमांडरों सहित 2 आतंकियों को ढेर कर दिया था। इसी साल 17 जनवरी को भी अमेरिका द्वारा ऐसी ही कार्रवाई की गई थी। 17 जनवरी को इस साल के पहले ड्रोन हमले में खुर्रम एजेंसी के बादशाह कोट इलाके में एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया था।


पिछले साल अगस्त में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नई अफगान नीति के बाद खुर्रम एजेंसी में ड्रोन हमलों में तेजी आई है। इस नीति में पाकिस्तान पर आतंकियों को सुरक्षित पनाहगाह देने का आरोप भी लगाया गया है। गौरतलब है कि 2016 में ऐसे हमले में तालिबान का शीर्ष आतंकी मुल्ला अख्तर मंसूर मार गया था।