वैज्ञानिकों और भूगर्भशास्त्रियों ने राजस्थान में 11.82 करोड़ टन सोने का भंडार होने की पुष्टि की है. विशेषज्ञों का दावा है कि सोने का यह भंडार ज्यादातर बांसवाड़ा और उदयपुर जिले में स्थित है. भारतीय भूगर्भशास्त्रीय सर्वेक्षण (जीएसआई) के महानिदेशक एन. कुटुंबा राव ने मीडिया से बातचीत में कहा कि सोने का यह भंडार भूतल से 300 फुट की गहराई में हो सकता है.

राव ने कहा कि तांबा और सोने की खोज को लेकर कार्य प्रगति पर है. यहां इन धातुओं के होने के संकेत मिले थे. धातुओं की खोज सिकर जिले के नीमा का थाना में भी चल रही है.

सोना और तांबे के अलावा वैज्ञानिकों को शीश और जस्ता समेत अन्य धातुओं के मिलने के भी संकेत मिले हैं.

वैज्ञानिकों की माने तो 3.50 करोड़ टन शीश और जस्ते का भंडार राजपुरा-दारिबा खदान में हो सकता है.

भिलवाड़ा में भी धातुओं की खोज का अभियान जारी है.

राजस्थान में अब तक 8 करोड़ टन तांबा पाया गया है.