नई दिल्ली । भारत में बैंकों के 9000 करोड़ लेकर फरार हुए शराब कारोबारी विजय माल्या को ब्रिटेन की एक अदालत से झटका लगा है। अदालत ने विजय माल्या को सिंगापुर की एक कंपनी बीओसी एविएशन को 9 करोड़ डॉलर यानी करीब 579 करोड़ रुपये हर्जाने के रूप में लौटाने का आदेश दिया है। कोर्ट के इस आदेश के बाद अब यह तो तय है कि अगर माल्या इसे नहीं चुकाते हैं तो उन्हें जेल भी हो सकती है या फिर वे भारत के बाद ब्रिटेन से भी भागने का रास्ता खोजेंगे। बीओसी एविएशन का माल्या की हवाई सेवा किंगफिशर एयरलाइंस पर बकाया था और इसी के एवज में कंपनी ने हर्जाने की मांग की थी। बीओसी एविएशन ने माल्या के खिलाफ लंदन की अदालत में याचिका दायर की थी।

ये है पूरा मामला


ये उस वक्त की बात है जब भारतीय और दुनिया के आसमान में भी माल्या के किंगफिशर अपने पांव पसार रहे थे। इसी दौरान साल 2014 में किंगफिशर एयरलाइंस ने बीओसी से 4 विमान लीज पर लेने का एग्रीमेंट किया था। बीओसी ने अपने वायदे के अनुसार तीन विमान किंगफिशर को दे भी दिए। उस समय भी कंपनी ने पुराना बकाया नहीं चुकाने के कारण चौथा विमान किंगफिशर को डिलीवर नहीं किया। बीओसी के साथ हुए लीज एग्रीमेंट के अनुसार किंगफिशर को पुराना बकाया और एडवांस दोनों चुकाने थे। लेकिन किंगफिशर ने ऐसा नहीं किया।


...और आसमान का पंछी जमीन पर आ गया


धीरे-धीरे विजय माल्या और किंगफिशर के बुरे दिन शुरू हो गए। आसमान से बातें करने वाली किंगफिशर एयरलाइंस की उड़ान बंद हो गई। बंद होने के समय तक भी किंगफिशर ने बीओसी एविएशन का बकाया नहीं चुकाया। इस पर बीओसी एविएशन ने आरोप लगाया कि माल्या ने लीज से जुड़े नियमों का उल्लंघन किया है। बीओसी का दावा तो यहां तक था कि लीज समझौते के तहत किंगफिशर की तरफ से जो सिक्योरिटी जमा किया गया था, वह भी कंपनी के बकाये को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं है।

ब्‍याज सहित लौटानी होगी बकाया रकम


बिजनेस और प्रॉपर्टी से जुड़ी लंदन की एक हाईकोर्ट ने 5 फरवरी के अपने आदेश में कहा कि हर्जाने के खिलाफ बचाव पक्ष (विजय माल्या) अपनी दलीलें साबित नहीं कर पाया है। इस बकाया राशि के खिलाफ बीओसी एविएशन सिंगापुर और बीओसी एविएशन (आयलैंड) लिमिटेड ने लंदन की कोर्ट का रुख किया। बीओसी ने अपनी इस अर्जी में किंगफिशर एयरलांइस और उसकी पैरेंट कंपनी यूनाइटेड ब्रेवरीज को पार्टी बनाया। फैसले में जस्टिस पिकेन ने बीओसी एविऐशन के पक्ष में किंगफिशर को ब्‍याज और कानूनी खर्च सहित बकाया राशि लौटाने का आदेश दिया। कोर्ट ने किंगफिशर एयरलांइस के साथ युनाइटेड ब्रेवरीज को भी हर्जाने की आधी रकम संयुक्‍त रूप से लौटाने को कहा।

फैसले से बीओसी खुश


कोर्ट के इस फैसले के बाद बीओसी एविएशन के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस फैसले से हम खुश हैं, लेकिन अभी इस मामले में हम कुछ भी नहीं कहना चाहते। हालांकि इस मामले में किंगफिशर की तरफ से फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है।


भारत को भी प्रत्‍यर्पण की उम्मीद


बीओसी एविएशन के मामले में माल्या को लगे झटके से यहां भारत में भी उम्मीद जगी है। आगामी 16 मार्च को माल्‍या के प्रत्‍यर्पण पर लंदन की स्‍थानीय अदालत को आखिरी सुनवाई होनी है। हालांकि मामले में कोर्ट का फैसला मई में आएगा। फिलहाल विजय माल्‍या 650,000 पाउंड (5 करोड़ 78 लाख रुपये) की जमानत पर जेल से बाहर हैं। माल्या यह जमानत 2 अप्रैल को खत्म होगी। बैंकों के 9000 करोड़ रुपये लेकर फरार हुए माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भारत सरकार ने लंदन की कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। भारत सरकार की अपील पर ही लंदन पुलिस ने पिछले साल अप्रैल में माल्‍या को गिरफ्तार भी किया था, बाद में उन्‍हें जमानत मिल गई थी।


याट के भी शौकीन रहे हैं माल्या


माल्या हमेशा से ही अपनी लाइफस्टाइल के लिए जाने जाते रहे हैं। एक वक्त ऐसा भी था, जब उनके महंगे शौक भी मीडिया में छाए रहते थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, माल्या ने 2006 में एक याट खरीदी थी, जिसकी कीमत 756 करोड़ थी और माना जाता है कि यह भारत की सबसे महंगी याट थी।

माल्या ने इसे कतर की एक रॉयल फैमिली से खरीदा था, इस याट का नाम ‘इंडियन एम्प्रेस’ रखा गया। इस याट की खास बता ये थी कि ये तीन मंजिला थी, इस याट में 16 लग्जरी केबिन थे, जिनमें हर तरह की सुविधा मौजूद थी। इसमें 10 हजार हॉर्स पावर के तीन इंजन लगे थे, इसकी कुल लम्बाई 93 मीटर थी।


किंगफिशर कैलेंडर भी हुआ था इस पर शूट


इस याट में अक्सर पार्टी होती थी, इसलिए इसे बेहद खास बनाया गया था। साथ ही इसमें किंगफिशर कैलेंडर का फोटो शूट भी हुआ था। इस याट में हेलिपैड के साथ दो मर्सिडीज कार पार्क करने की भी जगह थी। पार्टी का शौक रखने वाले माल्या ने इस याट को अपने तरीके से सजाया था। याट का निचला डेक गेस्ट के लिए रिजर्व रहता था, जहां पर एक बार था। इसके अगले डेक पर विजय माल्या का प्राइवेट बेडरूम था। साथ ही बेहद खास जकूजी और लग्जरी बाथरूम भी इसमें था।


2011 में माल्या ने इस लग्जरी याट को एक यूरोप की कंपनी को बेच दिया था। कहा जाता है कि याट माल्या के दिल के बेहद करीब थी, कई बड़े फिल्मी सेलेब्स, नेता, क्रिकेटर्स इस याट पर पार्टी करते अक्सर नजर आते थे।