मेक्सिको: दक्षिण और मध्य मेक्सिको में शनिवार (17 फरवरी) को तेज गति का भूकंप आया, जिसकी वजह से वहां कुछ समय तक भय का माहौल दिखा. तीव्र भूकंप ने बड़ी-बड़ी बिल्डिंगों को झुका दिया और लोग जान बचाने के लिए सड़कों पर निकल कर आ गए. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 7.2 मापी गई है जो कि तबाही लाने के लिए काफी है. मेक्सिको राष्ट्रीय भूकंप सेवा और अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वे के मुताबिक किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है. भूकंप का आभास होते ही मेक्सिको के निवासी अपने घरों से निकल कर सड़कों पर आ गए और उनके जेहर में बीते साल सितंबर में आए एक के बाद एक भूकंप की यादें ताजा हो गईं.  भूकंप के डर से लोगों के सड़कों पर निकलने से यातायात को अस्थाई तौर पर रोक दिया गया.


मध्य मेक्सिको सिटी के ला रोमा के एक बिल्डिंग से बचाए गए 38 साल के केविन वाल्लाडोलिड ने एएफपी को बताया, 'ईमानदारी से कहूं तो जैसे ही भूकंप का अलार्म बजा हमलोग भय से चिल्लाने लगे, खुद को बेहद परेशान महसूस करने लगे, हम पहले के समय में चले गए जब भूकंप की वजह से 300 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. इसलिए हम घरों से दौड़कर स्ट्रीट पर निकल आए. हम बस इतना ही कर सकते थे.' 

सितंबर 2017 को आए भूकंप ने ली थी 300 से ज्यादा लोगों की जान

शनिवार को आए भूकंप ने लोगों के जहन में सितंबर 2017 में आए भूकंप की भयावह यादें ताजा कर दीं. 19 सितंबर को आए भूकंप की तीव्रता 7.1 मापी गई थी, जिसमें 370 लोगों की मौत हो गई थी. इस भूकंप से मेक्सिको सिटी में 167, मोरेलोस में 73, प्यूबेला में 45 लोग मारे जा चुके हैं, जबकि गुएरेरो में छह और ओक्साका में एक की मौत हुई थी. वर्ष 1985 में आए भूकंप के बाद से यह सबसे शक्तिशाली भूकंप था.

1985 में आए भूकंप ने ली थी हजारों की जान

19 सितंबर 1985 में आए भूकंप ने मेक्सिको में भयंकर तबाही मचाई थी. इस विनाशकारी भूकंप ने 10,000 से ज्यादा लोगों की जान ले ली थी, जबकि 30,000 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे.