नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्टीयरिंग कमिटी की बैठक के बाद शनिवार को पीएनबी बैंक घोटाले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिर सवालों के तीर दागे। राहुल ने कहा कि नीरव मोदी देश का 22 हजार करोड़ रुपये लेकर भाग गया और प्रधानमंत्री तथा वित्तमंत्री की ओर से इस पर अब तक कोई बयान नहीं आया है। पीएनबी बैंक घोटाले को बड़ा राजनीतिक मुद्दा बनाने के साफ इरादे जाहिर करते हुए कांग्रेस ने कहा कि संसद के बाहर और भीतर इस घोटाले पर तमाम विपक्षी दलों के साथ संयुक्त रुप से मिलकर वह सरकार की घेरेबंदी करेगी।


कांग्रेस स्टीयरिंग कमिटी की बैठक के बाद राहुल ने कहा कि पीएम बच्चों से डेढ घंटा चर्चा करते हैं मगर यह नहीं बताते हैं कि नीरव मोदी कैसे 22 हजार करोड़ पैसा लेकर चला गया। उन्होंने सवाल उठाया कि पीएम और वित्तमंत्री इस पर अब तक आगे क्यों नहीं आये हैं। राहुल ने कहा कि स्टीयरिंग कमिटी में पूर्व वित्तमंत्री चिदंबरम ने कहा कि इतना बडा घोटाला बिना बड़े लोगों के संरक्षण के नहीं हो सकता। भाजपा के राहुल पर नीरव मोदी के साथ रिश्तों को लेकर उठाये सवाल के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इसके जरिये घोटाले से ध्यान हटाने की कोशिश की जा रही है।

स्टीयरिंग कमिटी की बैठक में भी पीएनबी घोटाले पर व्यापक चर्चा हुई और इसके बाद एक प्रस्ताव पारित किया गया। इसमें पीएम से मांग की गई कि इस घोटाले के पूरे सच को तथ्यों के साथ देश के सामने रखें। साथ ही इस सच्चाई का भी खुलासा हो कि कैसे पूरी बैंकिंग व्यवस्था के रिस्क प्रबंधन को ध्वस्त किया गया। इतने बड़े स्तर पर रकम की धोखाधड़ी की शिकायत सामने आने के बाद भी वित्त मंत्रालय, इडी, सीबीआई से लेकर सरकार की तमाम एजेंसियां ने क्यों नहीं कार्रवाई की। कांग्रेस के मुताबिक रिजर्व बैंक और बैंकों की आडिट व्यवस्था की निगाह से देश के 125 करोड लोगों की रकम की लूट कैसे सामने नहीं आयी इसका जवाब भी पीएम को देना होगा।


यूपीए सरकार में इस घोटाले की शुरुआत के भाजपा के आरोपों को खारिज करते हुए रणदीप सुरजेवाला ने पीएनबी घोटाले से जुड़े अब तक बैंकों की ओर से नीरव मोदी और राहुल चौकसी से जुड़ी कंपनियों को जारी 367 लेटर ऑफ अंडरस्टेंडिग के दस्तावेज सार्वजनिक किये। इस आधार पर उन्होंने दावा किया कि घोटाले की सभी रकम 2017-18 के दौरान ही जारी किये गये हैं।


पीएनबी घोटाले की संयुक्त संसदीय समिति से जांच के सवाल पर रणदीप ने कहा कि कांग्रेस सभी विपक्षी दलों के साथ मिलकर इस पर साझा रणनीति बनाएगी। राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद और लोकसभा में पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को विपक्षी दलों से बातचीत कर रणनीति तय करने के लिए अधिकृत किया गया है।