दो दिवसीय यूपी इन्वेस्टर्स समिट का उद्घाटन करने लखनऊ पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश को डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का तोहफा दिया. समिट को संबोधित करते हुए कहा कि इस प्रोजेक्ट में 20 हजार करोड़ रुपये की निवेश की संभावना है. इतना ही नहीं करीब 2.5 लाख लोगों को रोजगार भी मिलेगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करेगी, जो उत्तर प्रदेश को 21वीं सदी में नई बुलंदियों पर ले जाएगा.


अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा, “आज इस अवसर पर मैं एक महत्वपूर्ण घोषणा भी करने जा रहा हूं. इस वर्ष बजट में प्रस्ताव रखा गया था कि देश में दो डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर्स का निर्माण किया जाएगा. इनमें एक यूपी में प्रस्तावित है. बुंदेलखंड के विकास को विशेषतौर पर ध्यान में रखते हुए, अब ये तय किया गया है कि यूपी में डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का विस्तार आगरा, अलीगढ़, लखनऊ, कानपुर, झांसी और चित्रकूट तक होगा. इस प्रोजेक्ट में 20 हजार करोड़ रुपये का निवेश का अनुमान है. इसकी वजह से ढाई लाख लोगों को रोजगार भी मिलेगा.”


इससे पहले उन्होंने डिजिटल क्लीयरेंस सिस्टम का शुभारंभ किया. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा- “योगी सरकार से पहले यूपी में माहौल ठीक नहीं था. लेकिन बहुत ही कम समय में प्रदेश को समृद्धि की तरफ ले गए योगी. जब परिवर्तन होता है, तो सामने दिखता है. उत्तर प्रदेश में इतने व्यापक स्तर पर इन्वेस्टर्स समिट होना, इतने निवेशकों और उद्यमियों का एकजुट होना, अपने आप में एक बड़ा परिवर्तन है. मैं यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, मंत्रिमंडल के उनके सहयोगियों, यहां की ब्यूरोक्रेसी, यहां की पुलिस, और उत्तर प्रदेश की जनता को बधाई देता हूं कि वो अपने उत्तर प्रदेश को इतने कम समय में समृद्धि और विकास के रास्ते पर ले आई है. नकारात्मकता भरे उस माहौल से राज्य को सकारात्मकता की तरफ लाना, हताशा-निराशा अलग करके उम्मीद की किरण जगाने का काम योगी सरकार ने किया है”

प्रधानमंत्री ने कहा कि यूपी में औद्योगिक निवेश को रोजगार सृजन से जोड़ते हुए नीतिगत निर्णय लिए जा रहे हैं. योगी जी की सरकार द्वारा अलग-अलग सेक्टरों के हिसाब से अलग-अलग योजना बना कर काम किया जा रहा है. योगी सरकार पूरी गंभीरता के साथ किसानों से किए गए, महिलाओं, नौजवानों से किए गए वायदे पूरे कर रही है.



पीएम मोदी ने क कहा, “मैंने पहले भी कहा है, Potential + Policy + Planning+ Performance से ही Progress आती है. अब यूपी भी सुपरहिट परफॉरमेंस देने के लिए तैयार है. यूपी की अर्थव्यवस्था में सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्योगों- जिन्हें हम MSME कहते हैं, उनका बहुत बड़ा योगदान है. एग्रीकल्चर के बाद MSME सेक्टर में ही रोजगार के सबसे ज्यादा अवसर बनते हैं. मुझे ये जानकर खुशी है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने इस महत्वपूर्ण तथ्य को ध्यान में रखते हुए एक जिला-एक उत्पाद योजना शुरू की है. एक जिला-एक उत्पाद योजना को अतिरिक्त लाभ प्रदान की जाएगी. केंद्र सरकार के स्किल इंडिया मिशन से, स्टैंड अप इंडिया - स्टार्ट अप इंडिया मिशन से. इसके अलावा सबसे बड़ा लाभ मिलेगा प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के माध्यम से.”


उन्होंने कहा कि खेती से जुड़ी एक बड़ी चुनौती है. खेत से लेकर बाजार तक पहुंचने में बड़ी मात्रा में फसल और फल-सब्जियां खराब हो जाती हैं. फसल-अनाज-फल-सब्जियों की बर्बादी कम करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना शुरू की गई है. इस योजना के तहत पूरी सप्लाई चेन और इंफ्रास्ट्रक्चर का आधुनिकीकरण किया जा रहा है. इसके अलावा उत्तर प्रदेश में कृषि उताप्द और कृषि अपशिष्ट से धन की भी असीम संभावनाएं मौजूद हैं. खासकर गन्ने के उत्पादन में यूपी के सबसे आगे रहने की वजह से यहां इथेनॉल प्रॉडक्शन की बहुत संभावनाएं है.