नई दिल्ली राजधानी दिल्ली में सरकार और सचिव विवाद अब और भी गरमा गया है. दिल्ली पुलिस शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री आवास पर सीसीटीवी फुटेज की जांच के लिए पहुंची. एडिशनल डीसीपी हरिंदर सिंह की अगुवाई में पुलिस मुख्यमंत्री आवास में घुसी है.


दिल्ली पुलिस की कार्रवाई पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि जितनी शिद्दत के साथ इस मामले की जांच की जा रही है, मुझे खुशी है कि जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि जज लोया की हत्या के मामले में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से पूछताछ करने की हिम्मत दिखानी चाहिए.


मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से आरोप लगाया गया है कि पुलिस बिना किसी सूचना के उनके आवास पर पहुंची है. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के मीडिया एडवाइज़र अरुणादेय ने ट्वीट कर बताया कि सीएम आवास को पुलिस ने अपने अंडर में लिया है, काफी संख्या में पुलिस फोर्स घर में घुसी है.

उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस राज में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है. क्या एक चुने हुए सीएम के साथ इस प्रकार का व्यवहार सही है. गरीब लोगों के साथ इस प्रकार का व्यवहार किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कानून के तहत आम आदमी को अधिकार मिलते हैं. उन्होंने कहा कि एक मुख्यमंत्री जनता के लिए काम कर रहा है, उसके साथ ये हो रहा है.


आप नेता आशुतोष ने आजतक के साथ बातचीत में कहा कि दिल्ली पुलिस मोदी सरकार के इशारे पर काम कर रही है. केंद्र सरकार राज्य सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है, इस प्रकार का व्यवहार काफी निंदनीय है. आशुतोष ने कहा कि बीजेपी आम आदमी पार्टी से घबराई हुई है और राजधानी का विकास रोकना चाहती है.


विधायकों की जमानत पर फैसला आज


राजधानी दिल्ली में मुख्य सचिव मारपीट मामला अभी थमा नहीं है. दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने इस मामले में आम आदमी पार्टी के दो विधायकों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिला. हालांकि, कोर्ट आप विधायक प्रकाश जारवाल और अमानतुल्ला खान की जमानत पर आज सुनवाई कर सकती है. आम आदमी पार्टी की ओर से दिल्ली पुलिस के दबाव में वीके जैन पर बयान बदलने का आरोप है.


वहीं मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के समर्थन में दिल्ली एजेकुशन स्टेट एडवाइज़री के सदस्य IAS अफसर धीर झिंग्रान ने अपना पद छोड़ दिया है. उन्होंने एजुकेशन विभाग के सचिव को खत लिख कर कहा है कि वह अपना पद अंशु प्रकाश से हुई बदलसूकी के विरोध में दे रहे हैं.