नई दिल्ली: आज जयललिता का जन्मदिन है. उनका जन्म 24 फरवरी 1948 में मंडीया, मैसूर (अब कर्नाटक) में हुआ. फिल्मों में अपने अभिनय से सबके दिलों में बसी जयललिता को 'अम्मा' नाम से भी सम्बोंधित किया जाता है. वह तमिलनाडु की 3 बार मुख्यमंत्री रहीं. उन्होंने ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम पार्टी में रहते हुए चुनाव लड़े और जीते. जयललिता की मां भी तमिल फिल्मों में काम करती थीं. 2 साल की उम्र में उनके पिता जयराम उनकी मम्मी को छोड़कर चले गए थे. जयललिता की प्रारंभिक शिक्षा बंगलौर और चेन्नई में हुई.   

आज जयललिता के जन्मदिन के मौके पर चेन्नई में महिलाओं को दोपहिया वाहन खरीदने पर 25 हजार रुपये की सब्सिडी देने की योजना का शुभारंभ हो रहा है. इस योजना का नाम 'अम्मा टी-व्हीलर स्कीम' रखा गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दोपहिया योजना के उद्घाटन समारोह में शिरकत करेंगे. आज वो सबसे पहले दमन पहुंचेंगे और कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत करेंगे. पीएम मोदी तमिलनाडु के अलावा अगले दो दिन दमन, पुडुचेरी और गुजरात की यात्रा करेंगे. 

यहां उनके जन्मदिन पर जानिए जयललिता के बारे में कुछ अनसुनी बातें, जिन्हें बहुत ही कम लोग जानते हैं. 

1. 15 साल की ही उम्र में जयललिता ने फिल्मों में कदम रखा, और उन्हें एक्ट्रेस बनाने की तमन्ना उनकी मां संध्या की थी. 

 

2. तमिल सिनेमा में उन्होंने जाने माने निर्देशक श्रीधर की फिल्म 'वेन्नीरादई' से अपना करियर शुरू किया और लगभग 300 फिल्मों में काम किया. तमिल के अलावा तेलुगु, कन्नड़, अंग्रेजी और हिन्दी फिल्मों में भी काम किया. 

 

3. तमिल सिनेमा और बॉलीवुड के अलावा जयललिता ने अपने स्कूल के समय 1961 में 'एपिसल' नाम की एक अंग्रेजी फिल्म में काम किया.

 

4. बॉलीवुड में उनकी ज़्यादातर फिल्में अभिनेता धर्मेंद्र के साथ की.  

 

5. साल 1997 में उनके जीवन पर बनी एक तमिल फिल्म 'इरूवर' आई थी, जिसमें जयललिता की भूमिका ऐश्वर्या राय ने निभाई थी.

6. ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्ना द्रमुक) के स्थापक एम जी रामचंद्रन के साथ जयललिता ने 28 फिल्मों में काम किया. फिल्मों के बाद एमजीआर के साथ ही राजनीति में कदम रखा और उनकी मृत्यु के बाद अन्ना द्रुमक पार्टी का भार संभाला.

 

7. राजनीति में उनके समर्थक उन्हें अम्मा (मां) और पुरातची तलाईवी (क्रांतिकारी नेता) कहकर बुलाते थे. 

 

8. जयललिता को साड़ियों और गहनों का बहुत शौक था. इसी वजह से उनके पास 10 हज़ार साड़ियों का कलेक्शन था और कई महंगे गहने भी थे. वो अपने खास पंडित की सलाह से ही हर मौके के अनुसार साड़ियां पहना करती थीं.  

9. जयललिता के बतौर मुख्यमंत्री के कार्यकाल में उन्होंने कड़े कदम उठाए जैसे हड़ताल पर जाने वाले 2 लाख कर्मचारियों को एक साथ नौकरी से निकाला, किसानों की मुफ्त बिजली पर रोक लगा दी, राशन की दुकानों में चावल की कीमत बढ़ा दी, 5000 रुपये से ज्यादा कमाने वालों के राशन कार्ड खारिज कर दिए, बस किराया बढ़ा दिया और मंदिरों में जानवरों की बलि पर रोक लगा दी.

 

10. 5 दिसम्बर 2016 को चेन्नई अपोलो अस्पताल में रात 11:30 बजे दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया.