मध्यप्रदेश राजस्थान और छत्तीसगढ़ में लाखों लोगों की गाढ़ी कमाई को फर्जी तरीके से निवेश करवाने और करीब 300 करोड़ रुपए का गबन करने वाले श्री राम ग्रुप ऑफ़ कंपनीज के सीएमडी संजय मेवाड़ा को हरियाणा पुलिस शुक्रवार को मंदसौर लेकर आई है. निवेश की रकम को कम टाइम में दोगुना करने और नेशनल बैंकों से ज्यादा ब्याज देने का झांसा देने वाली कंपनी के सीएमडी संजय मेवाड़ा को हरियाणा की ईओडब्ल्यू की टीम ने गत 13 मार्च के दिन भोपाल से गिरफ्तार किया था. इसके बाद हरियाणा पुलिस उसे अपने साथ लेकर गई चली गई थी.


मध्य प्रदेश के अलावा राजस्थान और छत्तीसगढ़ के कई शहरों में करीब 120 ब्रांचों के जरिए 2 लाख 28 हजार निवेशकों की 284 करोड़ 87 लाख रुपए की रकम हड़पने वाली कंपनी के सीएमडी के पकड़े जाने बाद कंपनी में निवेश करने वालों में हड़कंप मचा है.


आरोपी संजय मेवाड़ा अभी हरियाणा पुलिस की रिमांड पर चल रहा है.  इसी सिलसिले में मालवा इलाके में भी कंपनी द्वारा हजारों लोगों को चूना लगाने की शिकायत के चलते पुलिस मंदसौर लेकर आई है. इसके आने की खबर के साथ ही पीड़ित लोगों की भीड़ कोतवाली थाने के बाहर जमा हो गई  और  हरियाणा पुलिस को अपने निवेश की रकम वापस लौटाने संबंधी शिकायत भी दर्ज करवाई.


वर्ष 2016 में कंपनी ने मंदसौर ,नीमच, रतलाम और देवास के अलावा सीहोर में बड़े ऑफिस खोल कर लोगों से लाखों रुपए का निवेश करवाया था. इसके बाद से ही कंपनी के कर्ताधर्ता तमाम ऑफिस पर ताले लगाकर फरार हो गये ए.लेकिन अब  संजय मेवाड़ा के पकड़े जाने के बाद निवेशकों को अपने पैसे वापस मिलने की उम्मीद जगी है.