चैत्र नवरात्रा की रविवार से शुरुआत हुई. नवरात्र के मौके पर विभिन्न शुभ मुहूर्तों पर मंदिरों और घरों में पूरे विधि विधान से घट स्थापना की गई. नवरात्र के दौरान अब नौ दिनों तक मां दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा अर्चना की जाएगी. नवरात्र के पहले दिन शैलपुत्री माता की पूजा अर्चना की जा रही है. नवरात्र के शुभारंभ पर माता के मंदिरों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी. रविवार को अवकाश होने के कारण लोग सपरिवार भी माता के दर्शनों के लिए पहुंचे.


राजधानी जयपुर में आमेर स्थित शिलामाता मंदिर में सुबह से ही श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला शुरू हो गया. जय माता दी के जयकारों के साथ श्रद्धालुओं ने मां के दर्शन किए. लंबी लाइनों में लगकर श्रद्धालु मां के दर्शन करने के लिए इंतजार करते हुए नजर आए. इस मौके पर मंदिर प्रशासन की ओर से भी चाक चौबंद व्यवस्था की गई. मंदिर में सीसीटीवी कैमरों के जरिए नजर रखी जा रही है ताकि श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई परेशानी ना हो.


नवरात्र के मौके पर प्रदेश की राजधानी स्थित शिलामाता, बीकानेर के देशनोक, बाड़मेर के नागणेच्या माता मंदिर, शेखावाटी के सीकर के जीणमाता मंदिर, झुंझुनूं के शाकम्भरी माता मंदिर, करौली के कैलादेवी माता मंदिर समेत मारवाड़ व मेवाड़ के सभी बड़े व प्रसिद्ध मंदिरों में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. इन नौ दिनों के दौरान श्रद्धालु अपनी अपनी श्रद्धा व आस्था के अनुसार व्रत रखते हैं. कई लोग नौ दिनों तक निराहार रहकर भी माता की पूजा अर्चना करते हैं.