नई दिल्ली देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के आज एक साल पूरे हो गए हैं. मार्च 2017 को 14 साल के बाद बीजेपी यूपी में सत्ता में वापस लौटी थी. 19 मार्च 2017 को मुख्यमंत्री का ताज योगी आदित्यनाथ के सर सजा था. बीजेपी ने चुनाव में बड़े-बड़े वादे किए थे. योगी सरकार के एक साल का सियासी सफर पूरा हो चुका है. नौकरी देने की दिशा में योगी सरकार पूरी तरह से फेल रही है. इसके बावजूद सरकार के दावे हैं कि उन्होंने सूबे की कायाकल्प के लिए कदम उठाए हैं.

एक साल पूरे होने के मौके पर योगी सरकार इन 10 वादों को पूरा करने के दावे कर रही है.


1. 36 हजार करोड़ के प्रावधान से 86 लाख लघु और सीमांत किसानों की कर्जमाफी.


2. गन्ना किसानों का 27 हजार करोड़ रुपए बकाया मूल्य का भुगतान.


3. इन्वेस्टर्स समिट से 4.70 लाख करोड़ यूपी में निवेश का प्रस्ताव प्राप्त.


4. सूबे की एक लाख एक हजार किलोमीटर सड़कें गड्ढामुक्त हुईं.


5. सौभाग्य योजना के तहत सूबे के 32 लाख परिवारों को विद्युत कनेक्शन.


6. उज्ज्वला योजना के तहत प्रदेश के 56 लाख गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन.


7. प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 12.15 लाख आवासों का निर्माण.


8. कानून का राज, सूबे में 1294 मुठभेड़, 3065 अपराधी गिरफ्तार, 45 अपराधी मारे गए.


9. मेट्रो की सौगात, गाजियाबाद मेट्रो का विस्तार, कानपुर, आगरा, मेरठ का डीपीआर प्रेषित. गोरखपुर, वाराणसी और इलाहाबाद के लिए डीपीआर तैयार.


10. अल्पसंख्यक बाहुल्य इलाकों में 28 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, एक समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, 6 आयुष चिकित्सालय, 45 इंटर कॉलेज, 22 आईटीआई भवन, 348 आंगनबाड़ी केंद्र, 3 पॉलिटेक्निक एक 20 पेयजल परियोजना का निर्माण.