नई दिल्ली: मोहम्मद शमी को लेकर चल रहे विवाद ने एक नया मोड़ ले लिया जब पाकिस्तानी महिला अलिश्बा ने दुबई में उनसे मिलने की बात तो स्वीकार की लेकिन इस भारतीय तेज गेंदबाज को धन देने की बात से इनकार कर दिया जिसका उनकी पत्नी ने दावा किया था.


अलिश्बा का नाम विवाद में तब आया जब शमी की पत्नी हसीन जहां ने आरोप लगाया कि उनके इस पाकिस्तानी महिला के साथ संबंध हो सकते हैं. अलिश्बा ने एक चैनल को दिए इंटरव्‍यू में कहा, ‘‘ हां, मैं उससे मिली थी. मैं दुबई आती जाती रहती हूं क्योंकि मेरी बहन शारजाह में रहती है. एक व्यक्ति के तौर पर, मैं सचमुच शमी को पसंद करती हूं. कोई भी प्रशंसक जब एक मशहूर हस्ती को आदर्श मानता है तो वह हमेशा अपने आदर्श से मिलने का ख्वाब देखता है. मेरी भी किसी और प्रशंसक की तरह उनसे( शमी) से मिलने की इच्छा थी, मुझे नहीं लगता कि यह कोई बड़ी बात है.’’ 

शमी की पत्नी ने शमी पर घरेलू हिंसा और व्यभिचार के आरोप लगाये थे जिससे इस गेंदबाज के खिलाफ जमानती और गैर जमानती धाराओं के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया.


हसीन ने तब संकेत दिया था कि पाकिस्तान और दुबई की महिला मित्रों से कथित संबंधों के चलते हो सकता है कि उनके पति ने अपने देश को भी धोखा दिया हो. इससे बाध्य होकर प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय ने इस मामले में बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी संस्था को एक हफ्ते के अंदर अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा. हसीन ने एबीपी न्यूज चैनल से कहा था, ‘‘ अलिश्बा पाकिस्तानी नागरिक है और शमी ने दावा किया था कि उसने उन्हें पैसा दिया है. शमी ने मुझे यह नहीं बताया कि यह राशि किस काम के लिये दी गयी है. मैं नहीं जानती लेकिन अगर वह मुझे धोखा दे सकता है तो वह देश को भी धोखा दे सकता है.’’ 


अलिश्बा ने कहा कि वह और शमी केवल दोस्त हैं. उन्होंने कहा, ‘‘ मैं उनकी प्रशंसकों में से एक हूं, इसी तरह मैं शमी की मित्र बनी. उनके लाखों प्रशंसक हैं और मैं भी इन सामान्य प्रशंसकों में से एक हूं। मैंने उन्हें मैसेज भेजे थे.’’ 

अलिश्बा ने इनकार किया कि वह ब्रिटेन स्थित मोहम्मद भाई को जानती हैं. उन्होंने इस चीज से भी इनकार किया कि वह शमी के साथ होटल में गयी थीं जिसका हसीन ने आरोप लगाया था. उन्होंने कहा, ‘‘ नहीं, मैं सीधे अपनी बहन के घर में गयी थी. हालांकि मैं अगले दिन सुबह करीब नौ बजे होटल गयी थी और उनके( शमी) साथ नाश्ता किया था.’’ 


टिप्पणिया उन्होंने कहा, ‘‘ मैं मोहम्मद भाई को व्यक्तिगत रूप से नहीं जानती और मेरा उनसे कुछ लेना देना नहीं है. हमारे बीच धन संबंधित लेन देन नहीं हुआ था, जो व्यक्ति किसी से झूठ नहीं बोलता, वह देशद्रोही कैसे हो सकता है.’’