बागपत महिलाओं की बोली लगने का मामला सामने आया है. यहां भरी सभा में महिला की आबरू नीलाम हो रही है. पिछले दिनों एक युवक ने महिला को 22 हजार रुपए में खरीदा और शादी रचा ली. लेकिन जब पैसे नहीं दिए तो दलाल उसकी पत्नी को उठा ले गए. पत्नी के चले जाने से परेशान युवक ने फांसी पर लटक कर जान दे दी. पुलिस ने शव को पंचनामे के लिए भेज दिया है. उधर बागपत में महिलाओं की मंडी लगने की खबर से हड़कंप मचा हुआ है. वहीं पुलिस को इसकी खबर ही नहीं है.


दरअसल मामला कोतवाली बागपत क्षेत्र का है. यहां एक युवक की आत्महत्या के पीछे हैरान कर देने वाली जानकारी सामने आई है. इसमें महिलाओ की खरीद-फरोख्त के गोरखधंधे को उजागर कर दिया है. शहर कोतवाली के सरूरपुर गांव में चार दिन पूर्व एक भट्टे पर युवक-युवती की शादी हुई. शादी में दुल्हन बनी महिला को पहले नीलाम किया गया और फिर शादी हुई. महिला का सौदा 22 हजार रुपए में किया गया. युवक मुकेश ने शादी के लिए महिला को खरीद लिया और शादी रचाई. दलाल को युवक ने 17 हजार रुपय दिए और बाकी के 5 हजार उधार कर लिए.


शादी के 4 दिन बाद भी जब युवक ने बकाया नहीं दिया तो दलाल मुकेश के घर आया. यहां वह मुकेश की पत्नी को जबरन जबरन वापस ले गया. पत्नी के चली जाने से आहत मुकेश ने गांव के बाहर पेड़ पर लटककर मौत को गले लगा लिया.  आत्महत्या की सूचना पर शहर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची. उसने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा. इसके बाद पूछताछ में पीड़ित परिजनों ने आत्महत्या करने की वजह का खुलासा किया तो सब चौंक गए. मुकेश के परिजनों के मुताबिक ईंट भट्ठे पर महिलाओं के दलाल का आना जाना है. वह युवक और युवतियों की रुपये लेकर शादी कराते हैं. चार दिन दिन पहले आरोपित 4 महिलाओं को लेकर भट्ठे पर पहुंचे. इनमें से एक महिला का 22 हजार रुपये में सौदा हो गया.


आरोपितों ने साढ़े 15 हजार रुपये लेकर महिला की शादी मुकेश के साथ करा दी थी. बाकी रकम जल्द ही देने तय हुए थे. इतना ही नही परिजन ने बताया कि युवकों के साथ अन्य तीन युवतियां थीं. 15 हजार लेने के बाद वह तीनो महिलाओं को अपने साथ लेकर वापस चले गए. एक महिला उसी समय से मुकेश के साथ रह रही थी. परिजनों ने दलाल का नाम मोनू बताया. कहा कि वह बड़ौत के गुराना गांव का रहने वाला है. पता चला है कि मोनू का बड़ा गैंग है. यह दूसरे प्रदेशों से लड़की, महिलाओं की तस्करी लाकर सप्लाई करता है. बता दें महिला तस्करी का बागपत में ये कोई पहला मामला नहीं है. पहले भी जनपद महिलाओं के खरीद फरोख्त के मामले सामने आते रहे हैं.



मामले में सीओ बागपत दिलीप सिंह कहते हैं कि मुकेश की चार दिन पहले शादी हुई थी. पता चला है कि कुछ लोग इसकी पत्नी को ले गए थे, जिसके बाद इसने आत्महत्या कर ली. जांच की जा रही है जो भी दोषी पाया जाएगाउ, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.