टीम इंडिया के स्टार तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को बीसीसीआई ने बड़ी राहत दी है. बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) ने शमी को भ्रष्टाचार के आरोपों से क्लीन चिट दे दी है.


बीसीसीआई ने शमी की पत्नी हसीन जहां द्वारा लगाए गए मैच फिक्सिंग के आरोप खारिज किया है. इसकी के साथ उन्हें अपने सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट में 'बी' ग्रेड में शामिल कर लिया है.


इसके अलावा वह सात अप्रैल से शुरू होने वाले IPL टूर्नामेंट में अपनी फ्रेंचाइजी दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ से खेलने के लिए भी स्वतंत्र होंगे. बीसीसीआई ने इससे पहले हसीन जहां के आरोपों के मद्देनजर शमी का कॉन्ट्रैक्ट रोके रखने का फैसला किया था.


बता दें कि बीसीसीआई ने उन पर लगे फिक्सिंग के आरोपों का जांच कराई थी और जांच कमेटी ने ये जानकारी दी है कि उन पर लगे फिक्सिंग के आरोप सही नहीं हैं.


बता दें कि शमी की पत्नी हसीन जहां ने उन पर घरेलू हिंसा समेत मैच फिक्सिंग के गंभीर आरोप लगाए थे और यह भी कहा था कि उन्होंने पाकिस्तानी महिला अलिश्बा के जरिए मोहम्मद भाई से पैसे लिए थे.


इसके बाद बीसीसीआई ने अपने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में से शमी का नाम भी हटा लिया और आईपीएल में भी उनके खेलने को लेकर संशय बना हुआ था. लेकिन, बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट ने पाया कि शमी मैच फिक्सिंग में शामिल नहीं थे.


इससे पहले बीसीसीआई अधिकारी राजीव शुक्ला ने तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी पर लगाए गए आरोपों के बारे में कहा, ‘हमें उसके निजी मसलों से कोई सरोकार नहीं है.

बता दें कि टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने सब कुछ भुलाकर आईपीएल के आगामी सीजन के लिए अपनी तैयारियां शुरू कर दी है.


आईपीएल 11 से पहले मोहम्मद शमी गाजियाबाद में जमकर प्रैक्टिस करते हुए नजर आए हैं. खबरों के मुताबिक शमी ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की सलाह मानते हुए यह फैसला लिया है.