अक्ल दांत यानी आखिर में निकलने वाले दांत, जिन्हें हम लोग दाढ भी कहते है। जब लगभग सभी दांत निकल आते है तो अक्ल दांत उभरना शुरू हो जाते है। ज्यादातर लोगों की अक्ल दाढ़ 17 से 25 साल के बीच उभरने लगती है लेकिन कई लोगों में यह स्थिति 25 के बाद भी आती है। जब यह दांत निकलते हैं तो काफी दर्द होता है, जो असहनीय हो जाता है और खाना-पीना तक बंद हो जाता है। आज हम आपको इसके दर्द के कारण और इससे राहत पाने के लिए कुछ उपाय बताएंगे।

क्यों होता है अक्ल दाढ़ में दर्द? 

अक्ल दांत के दर्द का इलाज करने से पहले आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि  विस्डम टुथ आने के पहले दर्द क्यों होता है। अक्ल दाढ़ (विस्डम टुथ) सबसे अंत में आते है, जिस वजह से उन्हें उभरते समय पूरी जगह नहीं मिल पाती। जब यह दांत निकलता है तो बाकी के दांतों को भी पुश करता है।, जिस वजह से मसूड़़ों में दवाब बनता है और दांतों में दर्द, मसूड़ों की सूजन अन्य आदि कई प्रॉबल्म आती है। 

1. गुनगुने पानी से कुल्ला

अगर अक्ल दांत के कारण मसूड़ों में सूजन आ जाए तो हल्के गुनगुने पानी में नमक डालकर कुल्ला करें। ध्यान रखें किन नमकयुक्त पानी को 2 से 3 मिनट तक मुंह में रखकर कुल्ला करें। इससे दर्द से राहत मिलेगी और सूजन भी कम होगी। 


 


2. बर्फ के टुकड़े

अगर दांत में दर्द है तो बर्फ के छोटे-छोटे टुकड़े लेकर उन्हें दांत के पास रखें। इससे दर्द और मसूड़ों की सूजन भी कम होगी। ऐसा रोजाना करें, तभी फर्क दिखना शुरू होगा। 

3. हींग का इस्तेमाल 

चुटकीभर हींग लेकर उसे मौसम्मी के रस में मिलाकर रूई की मदद से अक्ल दांत के पास रखें। इससे दर्द दूर रहेगा और आसपास के दांतों पर इसका असर भी कम बनेगा। 

4. लौंग भी फायदेमंद

लौंग दांतों के बैक्टीरिया और कीटाणुओं को समाप्त करने की क्षमता रखती है। वहीं अगर अक्ल दांत उबरते समय दर्द रहता है तो उस दांत से लौंग का अर्क चूंसने से दर्द कम होगा। 

5. प्याज करें दर्द कम 

कहते है कि जो लोग रोजाना कच्चे प्याज का सेवन करते है उन्हें दांतों से जुड़ी समस्या की शिकायत कम ही होती है। दरअसल, प्याज में मुंह के कीटाणुओं और जीवाणुओं को समाप्त करने के गुण होते हैं। अगर अक्ल दाढ का दर्द सता रहा है तो प्याज के टुकड़े को दांत के पास रखकर चबाएं। इससे काफी आराम मिलेगा।