शास्त्रों ने देवी लक्ष्मी को चंचला कहा है। चंचला का अर्थ है जो एक स्थान पर नहीं ठहरती। आज लक्ष्मी आपके घर हैं तो कल किसी और के घर। सनातन धर्म के अनुसार धन की देवी महालक्ष्मी हैं। धन के अभाव में जीविका चलाना संभव नहीं है। शुक्रवार महालक्ष्मी के प्रिय दिनों में से एक है। इस दिन यदि कुछ उपाय कर लिए जाएं तो घर में धन की वर्षा होती है। जो लोग आर्थिक तंगी से परेशान हैं, उन्हें लक्ष्मी पूजन कर मां को प्रसन्न करना चाहिए। 

अपने घर के बाहर चंदन अथवा सिंदूर से स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं। इससे मां लक्ष्मी आकर्षित होंगी।

शाम को मिट्टी या तांबे के बर्तन में तिल के तेल का दीपक लगाएं।

किसी भी पात्र में रंग-बिरंगे फूल डालकर मुख्य द्वार के पास रखें अथवा घर की उत्तर या पूर्व दिशा में रखें। इस उपाय से परिवार के मुखिया का ऐश्वर्य बढ़ेगा।

राशि अनुसार करें ये उपाय

मेष- तिजोरी में मां लक्ष्मी की चांदी की प्रतिमा रखें, व्यापार में धन वृद्धि के योग बनेंगे।

वृष- चांदी के सिक्के का पूजन करें, सुख-सौभाग्य में वृद्धि होगी।

मिथुन- चांदी की कोई भी वस्तु खरीदकर मंदिर में रखें।

कर्क- मां लक्ष्मी को खोये से बनी मिठाई का भोग लगाएं। जीवन में मिठास बनी रहेगी।

सिंह- वैवाहिक जीवन में मधुरता लाने के लिए जीवनसाथी को सोने से बनी कोई भी वस्तु गिफ्ट करें। 

कन्या- घर में बैठी हुई लक्ष्मी जी की प्रतिमा रखें।

तुला- लवमेट को लक्ष्मी जी पर चढ़े हुए गुलाब भेंट करें।

वृश्चिक- देवी लक्ष्मी को खीर का भोग लगाकर सुहागन महिलाओं को बांट दें।

धनु- कारोबार में तरक्की के लिए चांदी की थाली खरीदें, संभव न हो तो चांदी का चकौर टुकड़ा भी करीद सकते हैं।

मकर- अपनी माता जी को सोने या चांदी से बनी कोभ वस्तु गिफ्ट करें।

कुंभ- धन लाभ के लिए पंचधातु से बने लक्ष्मी गणेश की प्रतिमा खरीदें।

मीन- लक्ष्मी-गणेश को सफेद मिठाई का भोग लगाकर कंजकों में बांट दें।