ब्रेकअप किसी के लिए आसान नहीं होता। दिल का टूटना हमेशा ही कठिन होता है। खासतौर पर आज के समय में जब रिश्तों को संभालना वैसे भी कठिन हो चला है, टूटे रिश्ते मन को और ज्यादा तकलीफ देते हैं। मगर जिंदगी कभी न रुकने का नाम है और हर हाल में आगे बढ़ना बहुत जरूरी है। इस दौर से निबटने के लिए आप जो तरीके अपनाते है वह आपकी पर्सनैलिटी के बारे में काफी कुछ बताता है।आइए जानते हैं कि ब्रेकअप से निबटने के लिए अपनाया गया कौन-सा तरीका किस पर्सनैलिटी से जुड़ा है।

क्या आप अपने ब्रेकअप के बारे में सोशल मीडिया पर पोस्ट करते है? सीधे तौर पर या कैसे भी ये बताने की कोशिश करते हैं कि आप दुखी हैं? अगर ऐसा है तो आप अटेंशन सीकर हैं। दरअसल, एक अटेंशन सीकर व्यक्ति अपने दोस्तों के बीच या और लोगों को भी यह जताने की कोशिश करता है कि वह काफी दुखी है और इससे लोगों की सहानुभूति अपनी ओर आकर्षित करता है।

इस तरह के व्यक्ति शॉर्टकट में विश्वास करते हैं इसलिए वे ब्रेकअप के बाद अपने एक्स को भुलाने के लिए डेटिंग ऐप का सहारा लेने से भी पीछे नहीं हटते। ब्रेकअप से उबरने के लिए वह किसी और के साथ रिश्ता कायम करने, हुक-अप जैसे तरीके अपनाते हैं।

ये न तो गम में जीते है और न ही यादों में, बल्कि आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं। खुद को और बेहतर करने की कोशिश में लग जाते हैं और सच को काफी जल्दी स्वीकार कर लेते हैं। ऐसे लोग जीवन में बेहतर ढ़ंग से आगे बढ़ने की कोशिश में जुट जाते हैं।

कुछ लोग अधिक भावुक होते हैं और ब्रेकअप से उबरने के लिए अपने जज़्बात काबू नहीं नही पाते। ऐसे लोग काफी भावुक होते है और इन्हे रिलेशनशिप से जुड़ी सभी चीज़ें भी याद होती हैं।

इस तरह के व्यक्ति हमेशा अपने एक्स का पीछा करते रहते हैं फिर चाहे वो सोशल मीडिया पर हो या कॉमन दोस्तों के जरिए। सबसे जरूरी बात है कि ये हमेशा यह जानने की फिराक में होते है कि क्या इनके एक्स को भी आगे बढ़ने में दिक्कत हो रही है या नहीं?

ये काफी छुपेरुस्तम होते हैं और किसी से भी अपनी फीलिंग्स शेयर करना पसंद नहीं करते। ये खुद ही अपने सुख-दुख के साथी होते हैं।

इस किस्म के लोगों को ब्रेकअप से निपटने में सबसे ज्यादा समय लगता है। ये इस सच्चाई को स्वीकार नहीं पाते कि उनके प्रेमी/प्रेमिका उन्हें छोड़ कर जा चुके हैं। ये रोते हैं और कई बार तो अपने एक्स से वापस रिश्ता जोड़ने की भीख तक मांगने लगते हैं। इस बीच वे ये तक भूल जाते हैं कि इससे उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुंच रही है।