राष्ट्रीय राजधनी दिल्ली में सिखों का सबसे बड़ा धर्मिक स्थल गुरुद्वारा बंगला साहिब अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटकों के लिए सबसे पसंदीदा स्थान बनकर उभर रहा है। वह इस गुरुद्वारे में आत्मिक शांति के भारत आते हैं। वर्ष 2017 में लगभग 12 लाख अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटक पवित्र गुरुद्वारा बंगला साहिब पहुंचे थे।


4 महीने में ही आ चुके हैं 6 लाख विदेशी

इन्होंने गुरु ग्रन्थ साहिब को माथा टेका तथा अरदास की साथ ही प्रसाद स्वरूप लंगर ग्रहण किया। इस साल पहले चार महीनों में 6 लाख विदेशी पर्यटक आ चुके हैं। दिल्ली के पर्यटक स्थलों पर किए गए सर्वे 2017 में गुरुद्वारा बंगला साहिब को राष्ट्रीय राजधनी में अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटकों का सर्वाधिक पंसदीदा स्थल माना गया है। जहां अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटक स्वच्छ वातावरण में आत्मिक शान्ति, आध्यात्मिक अनुभूति तथा धार्मिक तथा ऐतिहासिक ज्ञानसवंर्द्धन के लिए एकत्रित होते हैं।


पर्यटकों के लिए 7 गाइड किए गए हैं तैयार

सिखों के आठवें गुरू हरकिशन साहिब जी से जुड़े गुरुद्वारा बंगला साहिब में अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटकों की सुविध तथा सहायता के लिए दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने एक सूचना केंद्र स्थापित किया है। इसमें अन्तर्राष्ट्रीय भाषाओं के 7 माहिर पर्यटक गाइड तैनात किए हैं, जो कि विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय भाषाओं में विदेशी पर्यटकों को इस धर्मिक स्थल की सांस्कृतिक तथा ऐतिहासिक महत्व के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं।


सिख धर्म पर रिसर्च करते हैं पर्यटक

ज्यादातर अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटक विभिन्न ट्रेवल एजेंसियों के माध्यम से 15 से 25 पर्यटकों के ग्रुप में धर्मिक स्थल का दौरा करते हैं। इनमें अनेक अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटक सिख धर्म के विभिन्न पहलुओं पर रिसर्च करने के लिए पावन स्थल का दौरा करते हैं।


10 अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं में सिख साहित्य प्रकाशित

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटकों को सिख धर्म के विभिन्न पहलुओं की विस्तृत जानकारी प्रदान करने के लिए कमेटी ने 10 अन्तर्राष्ट्रीय भाषाओं में सिख साहित्य प्रकाशित किया है ताकि अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटक अपनी मातृभाषा में सिख धर्म के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें। उन्होंने बताया कि चालू वर्ष के दौरान अब तक लगभग एक लाख पुस्तकों का मुफ्त वितरण किया जा चुका है।