रायपुर। रायपुर जिले के तमाम ग्रामीण व शहरी हाईस्कूल अब कॅरियर काउंसिलिंग के सेंटर बनेंगे। यहां बच्चों को पढ़ाई के साथ प्रतियोगी परीक्षाओं, रोजगारमूलक आजीविकाओं की जानकारी दी जाएगी। हफ्ते में एक दिन एक्सपर्ट मार्गदर्शन देंगे। कलेक्टर ओपी चौधरी ने यह अनूठी पहल करते हुए जिला रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन केंद्र को 'ऑपरेशन आगाज" की जवाबदारी सौंपी है।


अभियान के तहत 23 जून 2018 से 23 मार्च 2019 तक एक्सपर्ट स्कूलों पहंुचकर बच्चों को बड़ी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार करेंगे। 10वीं से बारहवीं तक के बच्चों को व्यावसायिक शिक्षा में प्रवेश के लिए आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं जेईई, नीट, डीएड, फार्मेसी, कृषि, सीए, क्लेट आदि पर जानकारी देंगे।


सेंट्रल परीक्षाओं की तैयारी भारत सरकार की सभी प्रकार की रक्षा सेवाओं थल सेना, वायुसेना, नौसेना, बीएसएफ के साथ-साथ पुलिस भर्ती, आरपीएफ, सीआरपीएफ में भर्ती की विस्तृत जानकारी दी जाएगी। प्रतियोगी परीक्षा पास करने ट्रेनिंग मुफ्त में दी जाएगी। शारीरिक व लिखित परीक्षा की तैयारी कैसे करें, यह एक्सपर्ट बताएंगे।


कॅरियर एवं मार्गदर्शन सेल का गठन 


ऑपरेशन आगाज के लिए विशेष सेल का गठन किया गया है। नोडल अध्ािकारी एओ लारी, उप संचालक रोजगार के साथ लिंक नोडल अधिकारी केएन पटेल, सहायक सोनू विज के साथ नवअंकुर फाउंडेशन बैरन बाजार की यूनिट काम करेगी।


लक्ष्य -कम से कम एक हजार छात्र हों चयनित 


अभियान में पहले चरण में 120 स्कूलों के 10 हजार छात्रों को शामिल करने की योजना है। इन्हें एक्सपर्ट ट्रेनिंग देंगे। संख्या बढ़ाई भी जा सकती है। इन 10 हजार में से कम से कम एक हजार छात्र प्रतियोगी परीक्षा में चयनित हों, यह लक्ष्य होगा।


सप्ताह के अंतिम दिन दी जाएगी ट्रेनिंग 


प्रत्येक शनिवार को तीन स्कूलों में जिला शिक्षा अधिकारी के सहयोग से ट्रेनिंग की व्यवस्था होगी। 12 वीं में अध्ययनरत ऐसे हुनरमंद छात्र, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं, उन्हें मुफ्त कोचिंग-प्रशिक्षण दिया जाएगा।


- आमतौर पर सरकारी स्कूलों के हुनरमंद गरीब छात्र बड़ी परीक्षाओं से वंचित रह जाते हैं। परीक्षा की तैयारी और कॅरियर काउंसिलिंग नहीं हो पाने की वजह से विकल्प नहीं मिलता। इस अभियान के तहत छात्रों को आगे बढ़ने में मदद पहंुचाई जाएगी, ताकि उनका भविष्य उज्ज्वल हो सके। - ओपी चौधरी, कलेक्टर रायपुर