कर्नाटक के बाद राजस्थान में भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंदिर दर्शन से चुनाव यात्राएं कर सकते हैं. राजस्थान कांग्रेस ने जिलेवार प्रमुख मंदिरों और मुद्दों की एक सूची कांग्रेस मुख्यालय को भिजवाई. माना जा रहा है कि जुलाई में राहुल गांधी राजस्थान में मंदिर यात्रा से चुनाव अभियान की शुरुआत कर सकते हैं. दूसरी ओर प्रधानमंत्री कार्यालय ने राज्य सरकार से एक दर्जन ऐसे कामों की सूची मांगी जिनका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर सकते हैं. राजस्थान बीजेपी उद्घाटन और पीएम की रैली के लिए धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व की जगह देख रही है. राजस्थान की सियासत में मंदिर और मठों की खास भूमिका है.


कर्नाटक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का अगला टेंपल रन राजस्थान हो सकता है. राजस्थान में विधानसभा चुनाव के अभियान का आगाज कांग्रेस राहुल गांधी की मंदिर यात्रा से करना चाहती है. इसके लिए पार्टी ने प्रमुख मंदिरों की एक सूची भी तैयार की है, जहां राहुल गांधी की यात्रा कराई जा सकती है. इस सूची में जैसलमेर बोर्डर पर स्थित तनोट माता का मंदिर, बीकानेर में करणी माता का मंदिर, चूरू में सालासर बालाजी मंदिर और पुष्कर में बह्मा मंदिर समेत करीब एक दर्जन मंदिर शामिल हैं. मंदिर का चयन जिस इलाके में रैली होगी उससे तय होगा. माना जा रहा है कि 15 जुलाई के बाद राहुल गांधी राजस्थान की यात्रा पर निकल सकते हैं. राहुल गांधी के मंदिर यात्रा को अंतिम रूप देने से पहले कांग्रेस फिलहाल मंदिर दर्शन योजना को सार्वजनिक नहीं करना चाहती है.


प्रदेश कांग्रेस की प्रवक्ता अर्चना शर्मा का कहना है कि राहुल गांधी की यात्रा का अभी कार्यक्रम तय नहीं हुआ है. राजस्थान छतीसगढ़ और मध्यप्रदेश में चुनाव हैं तो राहुल गांधी आएगे. जिस इलाके में जाएंगे तो वहां मंदिर भी जा सकते हैं. राहुल गांधी कहां कहां जाएंगे ये प्रदेश प्रभारी और अध्यक्ष ही मिलकर तय करेंगे.


पीएम मोदी का फोकस भी राजस्थान पर


उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फोकस भी राजस्थान पर है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने राज्य सरकार से एक दर्जन ऐसे कामों की सूची मांगी जिनका उद्घाटन पीएम कर सकते हैं. बीजेपी राजस्थान में पीएम की रैली की तैयारी कर रही है. उद्घाटन भी पीएम से रैली के लिए तय इलाके में ही कराया जाएगा. राहुल गांधी के मंदिर दर्शन के जवाब में पीएम की शुरुआती रैली भरतपुर के गोवर्धन सर्किट और भारत पाक सीमा पर श्रीगंगानगर के हिंदूमल कोट में कराने की तैयारी की जा रही है.भाजपा कार्यालय के कार्यालय मंत्री मुकेश चेलावत का कहना है पीएमओ ने विकास के कामों की सूची मांगी है, जिनका उद्घाटन किया जा सकता है. पीएम जल्दी ही राजस्थान आएंगे. लेकिन हम राहुल गांधी की तरह मंदिर की सियासत में यकीन नहीं करते हैं. पीएम ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व की जगह पर जाते हैं और मुख्यमंत्री भी जाती हैं.


दोनों पार्टियों ने अभी तक नहीं खोले हैं पत्ते

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधराराजे का चुनाव अभियान में सबसे बड़ा हथियार मंदिर और मठ होता है. वे जिस भी इलाके में जाती हैं वहां के प्रमुख मंदिर में जरूर जाती हैं. मंदिरों और मठों से राजे के इस कनेक्शन को देखते हुए कांग्रेस राहुल गांधी की यात्रा से मंदिर कार्ड खेलना चाहती है ताकि बीजेपी के हिंदुत्व कार्ड की धार को कम किया जा सके. जुलाई से शुरू हो रहे इस अभियान को लेकर दोनों ही पार्टियां मंदिर कार्ड के पत्ते अभी नहीं खोल रही हैं. लेकिन मंदिर अभियान की तैयारी जोर शोर से चल रही है.