मध्य प्रदेश में मिशन 2018 की रणनीति और प्लानिंग को लेकर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में मैराथन बैठकों का दौर जारी है. बैठक से पहले कमलनाथ और सिंधिया ने चुनाव आयोग की जांच पर सवाल खड़े किए हैं, साथ ही कमलनाथ ने किसानों का कर्ज माफी करने पर सरकार का स्वागत करने का वादा भी किया है.


प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कमेटी के कार्यकारी अध्यक्षों की बैठक हुई. बैठक से पहले कमलनाथ और सिंधिया ने चुनाव आयोग की जांच पर सवाल खड़े किए हैं. मामला फर्जी वोटर लिस्ट की जांच का है. चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जांच पर सवाल उठाते हुए कहा कि 101 विधानसभा चुनाव में फर्जीवाड़े की जांच मुख्यालय में बैठकर इतने कम समय में कैसे पूरी हो गई.


सिंधिया ने फर्जी वोटर लिस्ट मामले में बीजेपी नेताओं के बयानों पर निशाना साधते हुए कहा कि मुझे बीजेपी नेताओं के बयानों की चिंता नहीं, मुझे निष्पक्ष चुनाव की ज्यादा चिंता है. वहीं कमलनाथ ने कहा कि एक जनवरी 2018 तक की गड़बड़ी की सूची चुनाव आयोग को सौंपी थी. हमारी शिकायत के बाद गलती को सुधारा गया. लेकिन अब हम फिर आयोग से शिकायत करेंगे.


पीसीसी चीफ कमलनाथ ने यह भी कहा कि इसी सप्ताह में चुनाव घोषणा पत्र का पहला ड्राफ्ट तैयार हो जाएगा. किसान कर्ज माफी के मामले पर कमलनाथ ने कहा कि सरकार किसानों का कर्ज माफ करती है तो कांग्रेस उसका स्वागत करेगी. मंदसौर में राहुल गांधी के कर्ज माफी के ऐलाने के बाद सरकार हरकत में आई है. कमलनाथ ने बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा पर भी निशाना साधते हुए कहा कि झा नगर पालिका का चुनाव तो जीत कर बताएं. पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के कमलनाथ को बीजेपी में आने का न्यौता देने की बात पर कमलनाथ ने कहा कि ये सिर्फ मजाक है.