रायपुर। कहते हैं कि सफल होने के लिए हुनर जरूरी है, सुविधाएं केवल लाचार बनाती हैं। इस वाक्य को शहर के होनहारों ने सही साबित किया है। रविवार को घोषित जेईई एडवांस के नतीजों कुछ ऐसे होनहार नगीने निकले हैं, जिनके नन्हे कदम कच्ची सड़क पर थे, लेकिन अब हवाई जहाज के रनवे की ओर दौड़ने वाले हैं।


बात हो रही है प्रयास संस्था के दो ऐसे सफल छात्रों की, जिनके पिता ने कभी कॉलेज का मुंह तक नहीं देखा। और तो और गांव की बस्ती और कच्ची मकान में पले-बढ़े राहुल कोवाटी और अरुण चौधरी अब देश के शीर्ष संस्थान आइआइटी में पढ़ने जा रहे हैं। एक के पिता सफाईकर्मी तो दूसरे के पिता मजदूरी कर जीवन व्यापन कर रहे हैं। नतीजों में शहर के अन्य होनहार भी आइआइटी में अपना परचम बुलंद करेंगे।


गजब के छात्रों की अजब कहानी


पिता मजदूर, बेटा बनेगा इंजीनियर


नाम- राहुल कोवाटी


पिता- नकछेड़ा राम कोवाटी


रैंक - 523 (कैटेगरी)


विद्यालय- प्रयास


प्रयास में पढ़ने वाले राहुल कांकेर के पास चारामा नक्सली आतंक के बीच से निकल प्रतिभा को बुलंदियां पर ले गए। पिता मजदूरी करते हैं, लेकिन राहुल को इस बात पर गर्व है, क्योंकि पिता सदैव कहते हैं कि मेरे जैसा मत बनना बेटा, तू खूब पढ़ो और आगे बढ़ो। मजदूर पिता का होनहार बेटा राहुल अब देश के शीर्ष संस्थान में पढ़ने जा रहा है।


बनाऊंगा ऐसा यंत्र की सफाइ की न पड़े जरूरत


नाम- अरुण चौधरी


पिता- राधेश्याम चौधरी


रैंक- 502 (कैटेगरी)


विद्यालय- प्रयास


राजधानी से करीब 400 किलोमीटर अंबिकापुर के पास सीतापुर गांव से आकर प्रयास में तैयारी कर रहे अरुण चौधरी का चयन आइआइटी में हुआ। अरुण ने बताया कि पिता राधेश्याम चौधरी सफाइकर्मी हैं। इसका उन्हें अफसोस नहीं। बस मैं ऐसी मशीन बनाना चाहता हूं कि हाथों से सफाई करने की जरूर ही न पड़े।


ये हैं शहर के होनहार


अनघ शर्मा


पिता- नृपेन्द्र शर्मा


रैंक - 2045


विद्यालय- कृष्णा पब्लिक स्कूल


नाम-यश कुमार साहू


पिता- तेजराम साहू


रैंक- 4568


विद्यालय- दिल्ली पब्लिक स्कूल


कोचिंग संस्थान- आकाश इंस्टिट्यूट


नाम-आर्यन सिंह


पिता- मनोज कुमार सिंह


रैंक- 5269


विद्यालय- दिल्ली पब्लिक स्कूल


संस्थान- आकाश इंस्टिट्यूट


नाम-नरेश भरासागर


पिता- संताभारासागर


रैंक- 8139


विद्यालय- महर्षि विद्या मंदिर


कोचिंग संस्थान- आकाश इंस्टिट्यूट


नाम- अभिषेक शर्मा


पिता- अनिल शर्मा


रैंक- 8741


विद्यालय- स्वामी विवेकानंद सीनियर सेकंडरी


कोचिंग संस्थान- आकाश इंस्टिट्यूट


नाम- अंकित सोनी


पिता- मणिशंकर सोनी


रैंक - दिव्यांग में 48


संस्थान- आकाश इंस्टिट्यूट


23 आइआइटी की 11289 सीटें


संस्थान सीट


आइआइटी बांबे- 929


आइआइटी दिल्ली 851


आइआइटी खडगपुर 1341


आइआइटी मद्रास 838


आइआइटी कानपुर 827


आइआइटी भुनेश्वर 350


आइआइटी मंडी 150


आइआइटी इंदोर 260


आइआइटी हैदराबाद 285


आइआइटी जोधपुर 180


आइआइटी गांधीनगर 180


आइआइटी पटना 225


आइआइटी रड़की 975


आइआइटी रूपर 260


आइआइटी वाराणसी 1090


आइआइटी गुवाहाटी 615


आइआइटी धनबाद 120


आइएमएस धनबाद 912


आइआइटी पलक्कड़ 120


आइआइटी गोवा 90


आइआइटी तिरुपति 120


आइआइटी जम्मू 120


आइआइटी भिलाई 120


परिणाम के साथ ही आर्किटेक्चर के लिए आवेदन


जेईई एडवांस के परिणाम आने के बाद ही आर्किटेक्चर में ब्रांच के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी गई। वहीं इसमें आवेदन करने की अंतिम तिथि 11 जून दी गई है। आर्किटेक्टचर में प्रवेश के लिए पांच सेंटर बनाए गए हैं। जिसकी परीक्षा आइआइटी बांबे, कानपुर, रुड़की, गुवाहाटी, दिल्ली, मद्रास में 14 जून को ली जाएगी।सं. आरकेडी