नई दिल्ली। नक्सलवादियों द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रचने का हाल ही में खुलासा होने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को सुरक्षा एजेंसियों और संबंधित विभागों को प्रधानमंत्री की सुरक्षा बढ़ाने के निदेर्श दिए। गृह मंत्री ने यह निर्णय एक उच्चस्तरीय बैठक में लिया। बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव राजीव गौबा और इंटेलीजेंस ब्यूरो के निदेशक राजीव जैन मौजूद थे।


गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि राजनाथ सिंह के आवास पर हुई यह बैठक महाराष्ट्र पुलिस की उस रिपोर्ट के बाद आयोजित की गई थी जिसमें प्रधानमंत्री की हत्या की साजिश रच रहे कुछ नक्सलवादियों की आपसी बातचीत का ब्योरा दिया गया था। अधिकारी के अनुसार, गृह मंत्रालय ने निदेर्श दिए कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा और कड़ी करने के लिए अन्य सुरक्षा एजेंसियों से विचार विमर्श कर सभी जरूरी कदम उठाए जाएं।

पुणे पुलिस ने सात जून को एक अदालत में कहा था कि उन्होंने नक्सली गतिविधियों के संबंध में छह जून को गिरफ्तार हुए पांच लोगों में से एक दिल्ली निवासी रोना विल्सन के आवास से एक पत्र बरामद किया है। उस तथाकथित पत्र में कथित रूप से राजीव गांधी जैसी घटना की एक योजना बनाने का उल्लेख किया गया है और कहा गया है कि मोदी को उनके रोड शो के दौरान निशाना बनाया जाना चाहिए।