बीएचयू में तैनात महिला चिकित्सक ने अपने चिकित्सक पति पर सात साल की मासूम बेटी से दुष्कर्म का आरोप लगाया है। आरोपी चिकित्सक के खिलाफ लंका थाने में दुष्कर्म, मारपीट और पाक्सो एक्ट में केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। इस घटना की जानकारी के बाद बीएचयू से लेकर थाने तक सनसनी फैली रही। 


एफआईआर के अनुसार महिला बीएचयू में सीनियर रेजीडेंट हैं। उनकी शादी हल्द्वानी के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. यतीन्द्र मोहन बहुगुणा से हुई है। सीनियर रेजीडेंट अपनी सात वर्षीय बेटी के साथ बनारस में ही रहती हैं। वहीं पति हल्द्वानी में रहता है। गर्मी की छुट्टी होने पर 23 मार्च को सीनियर रेजीडेंट ने बेटी को पति के पास हल्द्वानी रहने के लिए भेजा। वहां पिता ने बेटी के सामने ही शराब पीने के बाद गलत हरकत शुरू कर दी। डॉक्टर दस दिनों से अधिक समय तक बेटी के साथ गंदी हरकत करता रहा। पिता के कृत्य से तंग बेटी एक दिन रोने लगी तो चिकित्सक ने फोन करके मां से बेटी को बनारस ले जाने कहा। इसके बाद मां हल्द्वानी पहुंची तो बेटी उससे लिपटकर रो पड़ी। एक दिन बाद महिला रेजीडेंट उसे लेकर बनारस चली आईं। 


पापा करते रहे अश्लील हरकत

बनारस आने के बाद बेटी ने मां को आपबीती बताई, जिसको सुनकर वह अवाक रह गईं। बेटी ने बताया कि पापा अश्लील हरकत करते थे। एक दिन वह वह रोने लगी तो पापा ने उसे काफी पीटा। बेटी के अनुसार पापा कहते थे कि ऐसी लड़की से कौन शादी करेगा। पति को फोन करके जब महिला डॉक्टर ने कृत्य का विरोध किया तो पति उल्टे किसी से न बताने की बात कहकर धमकी देने लगा। तब महिला डॉक्टर ने लंका थाने पर पति के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने दुष्कर्म, पाक्सो एक्ट में केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।