नई दिल्ली, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन के बीच दूरियों को कम करने में एक तीसरे शख्स का भी हाथ माना जा रहा है। यह व्यक्ति अमेरिका के पूर्व बॉस्केटबॉल खिलाड़ी डेनिस रॉडमैन हैं, जो किम जोंग के पसंदीदा बास्केटबॉल खिलाड़ी भी हैं और उनके करीबी भी। 


वह मुलाकात के दौरान सिंगापुर में ही मौजूद थे। रॉडमैन कई मौकों पर यह दावा कर चुके हैं कि उन्होंने दो देशों को करीब लाने में अहम भूमिका निभाई है। रॉडमैन मंगलवार को इस ऐतिहासिक मुलाकात को देखकर टीवी चैनल पर एक इंटरव्यू के दौरान भावुक भी हो गए। आंसू पोंछते हुए रॉडमैन ने कहा, ‘यह बरसों के प्रयास का फल है। बेहद महान दिन और मैं बहुत खुश हूं।' 


सम्मान के लिए सात मिनट पहले पहुंचे किम जोंग 

किम वार्ता स्थल पर ट्रंप से सात मिनट पहले पहुंच गए थे। ऐसा उन्होंने सम्मान व्यक्त करने के लिए किया क्योंकि यह संस्कृति है, जिसमें युवा बुजुर्गों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिये उनसे पहले पहुंचते हैं। ट्रंप की लाल टाई भी सम्मान करने वाली हो सकती है क्योंकि उत्तर कोरियाई इस रंग को पसंद करते हैं।


30 हजार अमेरिकी सैनिक दक्षिण कोरिया में तैनात 

ट्रंप की घोषणा कोरियाई कट्टरपंथियों के कान खड़े कर सकती है, जिन्होंने उनसे उनके देश की सुरक्षा को जोखिम में नहीं डालने का अनुरोध किया है। अमेरिका और दक्षिण कोरिया सुरक्षा के मामले में सहयोगी देश हैं। करीब 30,000 अमेरिकी सैनिक वहां तैनात हैं।


दुनियाभर के नेताओं ने वार्ताको सराहा


भारत


भारत ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच आयोजित शिखर वार्ता का स्वागत करते हुए इसे सकारात्मक घटना बताया है। शिखर वार्ता पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विदेश मंत्रालय ने उम्मीद जाहिर किया कि उत्तर कोरिया प्रायद्वीप से जुड़ा कोई भी प्रस्ताव भारत के पड़ोस में परमाणु प्रसार संबंधी चिंताओं को दूर करेगा। इसका परोक्ष आशय पाकिस्तान के संदर्भ में माना जा रहा है। भारत काफी समय से मांग कर रहा है कि भारत के पड़ोस में उत्तरकोरिया के परमाणु प्रसार संबंधों की जांच की जाए।


चीन 

चीन ने पूर्ण परमाणु निशस्त्रीकरण की अपील की। चीन ने ट्रंप और किम बीच हुई वार्ता को ऐतिहासिक करार दिया। चीन ने उत्तर कोरिया पर लगे प्रतिबंध हटाने की मांग की।


दक्षिण कोरिया 

सिंगापुर समझौता शीत युद्ध खत्म करेगा। ट्रंप और किम के बीच हुई वार्ता को अंतिम शीत युद्ध की समाप्ति है। दो कोरियाई और अमेरिका शांति और सहयोग के नए इतिहास को लिखेंगे। 


रूस

रूस ने पहल का स्वागत किया।रूस ने दक्षिण कोरिया के साथ संघर्ष की समाप्ति को लेकर ट्रंप की पहल का स्वागत किया है। रूसी ने इसे कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव के खात्मे के लिए जरूरी बताया। 

जापान

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच हुए समझौते को बेहतर कदम बताया है। जापान पूर्ण, प्रामाणिक और स्थिर परमाणु निशस्त्रीकरण की सहमति चाहता है। 


यूरोपीय संघ

यूरोपीय संघ ने ट्रंप और किम जोंग के बीच हुई शिखर वार्ता की तारीफ की। इससे संकेत मिलते हैं कि कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निशस्त्रीकरण को हासिल किया जा सकता है। 

संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने शिखर वार्ता को परमाणु निशस्त्रीकरण की दिशा में मील का पत्थर बताया। उन्होंने परमाणु हथियार कार्यक्रम को खत्म करने में मदद की पेशकश की।