लखनऊ  सरकारी बंगले से सामान निकालने के बाद चल रहे विवाद के बीच यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को सफाई पेश की। लखनऊ में आयोजित पत्रकार वार्ता में उन्होंने कहा कि 'मैंने अपनी पसंद से बंगला बनवाया था। बंगले में कुछ चीजें मेरी थी जिसे मैं अपने साथ ले गया हूं।' स्वीमिंग पूल के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि मेरे बंगले में स्वीमिंग पूल था ही नहीं, कमरे में वूडन फ्लोरिंग पहले जैसी ही है। सपा अध्यक्ष ने आगे कहा कि लोग जलन में अंधे हो गए हैं।

सपा नेता ने टोंटी को लेकर हो रही चर्चा पर कहा कि मैं टोंटी देने के लिए तैयार हूं। सरकार बताए कितनी टोंटी गायब हैं। अखिलेश पत्रकार-वार्ता में अपने साथ दो नई टोंटी लेकर भी आए थे कुछ लोग तस्वीरों से गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि हम हर खेल में उन्हें हरा देंगे। भाजपा गठबंधन से डर गई है।  

इससे पहले उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने सोमवार को यूपी सरकार से कहा था कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आवंटित सरकारी बंगले में तोड़फोड़ के मामले में कार्रवाई की जाए। यूपी के राज्यपाल के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आवंटित आवास खाली किए जाने से पहले उसमें की गई तोड़फोड़ का मामला अनुचित और गंभीर है। सरकार सरकारी सम्पत्ति में नुकसान पहुंचाने के मामले में समुचित कार्रवाई करे।