भोपाल। मप्र के राजगढ़ जिले में एक छोटा सा स्टेशन है पचोर रोड़, यहां महज तीन एक्सप्रेस एवं एक पेसेंजर गाड़ी का ठहराव है। बावजूद इसके रेलवे ने महज 3500 रुपए महीने कि एवज में पार्किंग स्थल बनाकर ठेके पर दे दिया। जब स्टेशन पर आने वाली बाइक से पार्किंग ठेकेदार का पैसा पुरा नही हुआ तो ठेकेदार ने यहां आनेवाले प्रत्येक वाहन से पार्किंग बनाम प्रवेशकर वसूली शुरु कर दी, आम आदमी इसका विरोध करता है तो ठेकेदार के गुण्डे डराने धमकाने से भी बाज नही आ रहे हैं।
मामले कि जानकारी लगने पर पत्रकार माखन विजयवर्गीय ने स्टेशन पर जाकर असलियत कि जांच कि तो मामला सही पाए जाने पर स्टेशन पर उपलब्ध शिकायत पुस्तिका मे शिकायत दर्ज करवाने के बाद उसी समय से आमरण अनशन पर बेठ गए।
मामले कि जानकारी भोपाल डीआरएम को भी दी गई है।
पत्रकार विजयवर्गीय ने बताया कि ठेकेदार के गुण्डो द्वारा सवारीयों एवं उनके परिजनो से बदतमीजी कि जा रही है। में आमरण अनशन पर बैठा हुं , मुझे भी धमकाया गया है, अगर मेरे साथ कुछ होता है तो जवाबदारी प्रशासन कि होगी।

इनका कहना है

हां जानकारी मिली है, कार्रवाई कर रहे हैं।
श्री गुप्ता डीआरएम भोपाल