जयपुर। लगातार दो चुनाव हारने वाले नेताओं को कांग्रेस आगामी राजस्थान विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं देगी। साथ ही 2013 के विधानसभा चुनाव में 30 हजार से अधिक मतों से हारने वाले नेताओं को भी टिकट नहीं मिलेगा। पार्टी के इस फार्मूले से कई दिग्गज नेता टिकट की रेस से बाहर हो जाएंगे।


कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव अविनाश पांडे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट की पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से हुई मुलाकात के बाद यह फार्मूला तैयार किया गया है।


कांग्रेस के एक राष्ट्रीय महासचिव के अनुसार, लगातार दो चुनाव हारने वाले नेताओं को आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं देने का फार्मूला काफी विमर्श के बाद तैयार किया गया है। अब इसमें किसी भी प्रकार का समझौता नहीं होगा। बताया कि गुजरात विधानसभा चुनाव में भी यही फार्मूला तय किया गया था।


इसके लागू होने के बाद राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष ममता शर्मा, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. बीडी कल्ला, डॉ. चंद्रभान, रिछपाल मिर्धा, पूर्व विधायक संयम लोढ़ा, चंद्रशेखर बैद, रामचंद्र सराधना, बनवारी लाल शर्मा और आलोक बेनीवाल आदि के टिकट कटने की संभावना बन गई है। हालांकि, पार्टी में अभी इसे लेकर मंथन का दौर जारी है।


दिल्ली भेजी नेताओं की सूची-


सूत्रों के अनुसार, प्रदेश नेतृत्व ने लगातार दो बार चुनाव हारने वाले नेताओं की सूची राहुल गांधी के कार्यालय को भेज दी है। अगले माह इन नेताओं के साथ दिल्ली में राहुल गांधी बैठक करेंगे।